अवैध संबंधों के चलते भाभी के साथ मिलकर ममेरे भाई को मौत के घाट उतारा

क्राइम मध्यप्रदेश

विदिशा । अंधे कत्ल की गुत्थी को कोतवाली पुलिस ने दो दिन के भीतर ही सुलझा लिया है। इस मामले में मृतक का ममेरा भाई ही आरोपित निकला। आरोपित ने भाभी से अवैध संबंध के चलते भाई की हत्या की थी। गुरुवार को सीएसपी बीबी शर्मा ने इस अंधे कत्ल का पर्दाफाश किया।

18 फरवरी की दोपहर में अरिहंत विहार के पीछे प्लॉट में राजपूत कॉलोनी निवासी 40 वर्षीय अशोक गुर्जर का शव मिला था। शव की जानकारी मृतक के फुफेरे भाई ग्राम बेलई निवासी 25 वर्षीय समरत गुर्जर ने ही पुलिस को दी थी। पुलिस को समरत पर शक होने पर उसकी मोबाइल डिटेल निकाली गई तो मामला स्पष्ट हो गया।

घटना के पहले मृतक की पत्नी सुनीता और समरत में बात हुई थी। इसके बाद पुलिस ने समरत को हिरासत में लिया और पूछताछ की तो उसने जुर्म कुबूल कर लिया। दो बच्चों की मां सुनीता और समरत विवाह करने की भी प्लानिंग कर रहे थे। टीआई जयपाल इनवाती ने बताया कि समरत और हरीसिंह पर हत्या और सुनीता पर धारा 120 बी के तहत प्रकरण दर्ज कर गिरफ्तारी की है। जबकि दूसरा आरोपित फरार है।

दो माह पहले रची थी साजिश

सीएसपी ने बताया कि मृृतक की पत्नी से समरत के दो साल से अवैध संबंध थे। इसी बात की जानकारी जब मृतक को लगी तो वह पत्नी के साथ मारपीट करने लगा। इसके बाद पत्नी ने अपने प्रेमी समरत एवं उसके रिश्तेदार ग्राम शेखपुर निवासी हरीसिंह गुर्जर के साथ मिलकर दो माह पहले ही उसकी हत्या करने की प्लानिंग की।

बाइक पर ही दबाया था गला

17 फरवरी को सुनीता ने पूर्व प्लानिंग के मुताबिक समरत को विदिशा बुलाया। समरत अपने रिश्तेदार हरीसिंह को लेकर आया। रात में करीब 11 बजे उन्होंने अशोक को बुलाया और मंडी गेट के पास शराब पी। जब उसे खूब नशा हो गया तो बाइक पर बिठाकर मंडी बायपास ले गए। इस दौरान बाइक पर ही आरोपियों ने गला दबाकर हत्या करने का कोशिश की। लेकिन वह कामयाब नहीं हुए तो तौलिया से उसका गला दबाकर हत्या कर दी। शव प्लाट में फेंक दिया।

Facebook Comments