मध्यप्रदेश के 20 जिलों में बारिश का दौर जारी, मौसम विभाग ने एक साथ Red, Orange और Yellow Alert जारी किए

Madhya Pradesh Weather Update : प्रदेश के कुछ हिस्सों में बारिश और ओलावृष्टि की संभावना

मध्यप्रदेश राष्ट्रीय/अंतर्राष्ट्रीय

भोपाल। Madhya Pradesh Weather Update मध्य प्रदेश के पूर्वी जिलों में पिछले कुछ दिनों से बारिश की गतिविधियां जारी हैं जबकि पश्चिमी जिलों में मौसम शुष्क बना हुआ है। अभी दक्षिण-पूर्वी मध्य प्रदेश में हल्की से मध्यम वर्षा जारी रह सकती है। यह बारिश मांडला, जबलपुर, दमोह जैसे क्षेत्रों में हो सकती है। 8 फरवरी से पूरे मध्य प्रदेश का मौसम एक बार फिर शुष्क हो जाएगा। इसके बाद, दिन और रात के तापमानों में हल्की वृद्धि होने लगेगी।पिछले 24 घंटों के दौरान, मध्य प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में हल्की छिटपुट बारिश देखी गई, जबकि राज्य के पश्चिमी हिस्से लगभग शुष्क बने रहे। यह बेमौसम बारिश पिछले कुछ दिनों से मध्य प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में हो रही है।

7 फरवरी तक बारिश के आंकड़ों की बात करें तो, पूर्वी मध्य प्रदेश में सामान्य बारिश 20.2 मिमी होती है लेकिन इस बार 40.2 मिमी बारिश दर्ज हुई है जो की 99 प्रतिशत अधिक है। दूसरी ओर पश्चिम मध्य प्रदेश में सामान्य बारिश 7.8 मिमी होती है लेकिन इस बार की बात करें तो 12.1 मिमी रिकॉर्ड हुई है जो 55 प्रतिशत ज्यादा है।

चक्रवाती परिसंचरण के रूप में पश्चिमी विक्षोभ, अब औसत समुद्र तल से ऊपर 3.1 से 5.8 किमी के बीच हिमाचल प्रदेश और आसपास के क्षेत्रों में स्थित है।

हिमाचल प्रदेश और आसपास के क्षेत्रों में स्थित इस पश्चिमी विक्षोभ के कारण अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र में कहीं-कहीं हल्की वर्षा / हिमपात की संभावना है।मध्य महाराष्ट्र और आसपास के क्षेत्रों में स्थित चक्रवाती परिसंचरण, अब अब मराठवाड़ा और आसपास के क्षेत्रों में औसत समुद्र तल से 0.9 किमी ऊपर तक फैला हुआ है।

निचले ट्रोपोस्फेरिक स्तरों पर ईस्टर और वेस्टरली के बीच संगम के कारण आगामी 2 दिनों के दौरान विदर्भ एवं छत्तीसगढ़ में कहीं-कहीं वर्षा या गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है एवं आगामी 24 घंटों के दौरान पूर्वी मध्य प्रदेश के विदर्भ एवं छत्तीसगढ़ से सटे जिलों (अनुपुर, शहडोल, डिंडोरी, नरसिंगपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट जिलों में) में कहीं-कहीं आंधी एवं ओलाबृष्टि के साथ गरज चमक के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है।

एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ 11 फरवरी से पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र को प्रभावित करने की बहुत संभावना है।

अगले 2 दिनों के दौरान उत्तर पश्चिमी भारत में 2-3 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान में गिरावट एवं इसके बाद कोई महत्वपूर्ण बदलाव की संभावना नहीं है। शेष मध्य प्रदेश में आगामी 24 घंटों के दौरान न्यूनतम तापमानों में विशेष परिवर्तन नहीं होने की संभावना है एवं इसके बाद के 24 घंटों के दौरान इस क्षेत्र में 2 से 3 डिग्री की गिरावट संभव है। आगामी 24 घंटों के दौरान मध्यप्रदेश के दक्षिणी -पूर्वी भागों में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

कल यह मौसम सिस्टम दक्षिणी दिशा के तेलंगाना, विदर्भ और मराठवाड़ा की ओर बढ़ जाएगा, जिससे मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की बारिश में कमी आएगी।

इन मौसम गतिविधियों के कारण अधिकतम तापमान में 3 से 4 डिग्री की गिरावट आएगी और अगले दो दिनों तक तापमान सामान्य से नीचे रहेगा। इसके बाद, अधिकतम तापमान में धीरे-धीरे वृद्धि होगी, और इस अवधि के दौरान न्यूनतम तापमान भी सामान्य से ऊपर रहेगा।

पूर्वी मध्य प्रदेश में फरवरी महीने की आखिरी अच्छी बारिश हो सकती है। इसके बाद मौसम लगभग शुष्क हो जाएगा। हालांकि एक कंफ्लुएंस जोन के विकसित होने के कारण एक-दो स्थानों पर हल्की छिटपुट बारिश हो सकती है। लेकिन तेज बारिश नहीं देखी जाएगी।

मध्य प्रदेश के पूर्वी जिलों में पिछले कुछ दिनों से बारिश की गतिविधियां जारी हैं जबकि पश्चिमी जिलों में मौसम शुष्क बना हुआ है। दक्षिण-पूर्वी (सिंगरौली, सीधी, अनूपपुर, शहडोल, डिंडोरी, नरसिंगपुर, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, बालाघाट, बैतूल, बुरहानपुर जिले)मध्य प्रदेश में हल्की से मध्यम वर्षा जारी रह सकती है। यह बारिश मांडला, जबलपुर, दमोह जैसे क्षेत्रों पर देखी जाएगी।शनिवार की शाम से पूरे मध्य प्रदेश का मौसम एक बार फिर शुष्क हो जाएगा। इसके बाद, दिन और रात के तापमानों में हल्की वृद्धि होने लगेगी।

Facebook Comments