पुलिस जांच में दोषी पाई गई रीवा निवासी पूर्व विस सचिव सत्यनारायण की बेटी, 307 का चालान पेश

Bhopal Crime Madhya Pradesh Rewa
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

भोपाल। मध्यप्रदेश की विधानसभा के पूर्व सचिव रीवा निवासी सत्यनारायण शर्मा (सत्यनारायण चतुर्वेदी) की बेटी श्रुति शर्मा पुलिस की जांच में छात्र ईशान गुर्जर की हत्या के प्रयास में दोषी पाई गई है। पुलिस ने सभी गवाह एवं साक्ष्यों के साथ कोर्ट में चालान पेश कर दिया है। इससे पहले श्रुति शर्मा की मां ने पुलिस की जांच पर सवाल उठाते हुए छात्र ईशान गुर्जर का एक शपथ पत्र पेश किया था जिसमें छात्र ने लिखा था कि घटना में श्रुति शर्मा का कोई हाथ नहीं है।

श्रुति शर्मा की मां ने सीएसपी की निष्पक्षता पर सवाल उठाया था
घटना 9 नवंबर 2018 में चूनाभट्टी थाना क्षेत्र की है। बिल्डर के बेटे ईशान गुर्जर को श्रुति और उसके साथियों ने मारपीट कर चलती कार से फेंक दिया था। श्रुति का नाम एफआईआर से हटाने के लिए उस समय ईशान ने शपथ पत्र दिया था। श्रुति की मां ने वरिष्ठ अधिकारियों को पत्र लिखकर ईशान द्वारा दिए गए शपथ पत्र और श्रुति की मानसिक स्थित ठीक नहीं होने का हवाला देकर बताया था कि उनकी बेटी को फंसाया जा रहा है, इसलिए किसी दूसरे सीएसपी से मामले की दोबारा जांच कराई जानी चाहिए। मां के आवेदन पर टीटी नगर के सीएसपी उमेश तिवारी ने ईशान द्वारा दिए गए शपथ पत्र की जांच की।

पीड़ित छात्र के बिल्डर पिता ने दबाव बनाकर शपथ पत्र दिलवाया था
इसमें भी श्रुति को राहत नहीं मिली। ईशान के जब दोबारा बयान हुए तो वह घटना के बाद के अपने बयान पर ही कायम रहा। उसका कहना था कि पिता के दबाव में श्रुति का नाम FIR से हटाने के लिए शपथ दिया था। पिता नहीं चाहते थे कि मैं कोर्ट-कचहरी के चक्कर में रहूं। श्रुति ने भी मेरे साथ मारपीट की थी। इसके बाद मुझे कार से धक्का दिया था। श्रुति दोषी है, उसको सजा मिलनी ही चाहिए। ईशान के पिता नन्हेलाल गुर्जर का कहना है कि मेरे दबाव में ही बेटे ने शपथ पत्र दिया था। उसने जो बयान दिए हैं वह सही हैं, हम बेटे के साथ हैं।

ईशान का पहले अपहरण, फिर हत्या करने का प्रयास किया था
9 नवंबर 2018 को श्रुति और उसके साथियों फरहान खान, फैजान खान, आसिम खान, रईस खान, शशांक खरे, पुनीत उपाध्याय और हैदर ने ईशान का अपहरण कर उसके साथ कार में मारपीट की थी। बाद में चूना भट्टी क्षेत्र में उसे कार से धक्का दे दिया था। इसमें ईशान को गंभीर चोट आई थीं। इस घटना के बाद से ही श्रुति और हैदर फरार है। पुलिस ने श्रुति पर 10 हजार रुपए का इनाम घोषित किया है। पुलिस मामले में फरहान, फैजान, आसिम, रईस, शशांक और पुनीत को गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। फरहान इस बात से नाराज था कि उसकी मिमिक्री का वीडियो ईशान ने वायरल किया था।

श्रुति और हैदर को पुलिस ने अब तक गिरफ्तार नहीं किया है
जांच के बाद सीएसपी ने अपने लिखा है कि साक्ष्य श्रुति के खिलाफ हैं और वह अपराध में शामिल है, इसलिए निराकरण कोर्ट से कराना उचित होगा। इधर, पुलिस ने 31 दिसंबर 2019 को श्रुति के 7 साथियों के खिलाफ हत्या के प्रयास, अपहरण और मारपीट समेत अन्य धाराओं में चालान पेश कर दिया है। इन आरोपियों को पुलिस पूर्व में गिरफ्तार कर चुकी है। जबकि फरार चल रहे श्रुति और हैदर के खिलाफ जांच जारी है।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •