रीवा: इन विधानसभा सीटों में युवाओं और महिलाओं पर दांव खेलेगी कांग्रेस

MP: कांग्रेस सर्वे में जुटी, उम्मीद लेकर दावेदार मैदान में उतरे

भोपाल मध्यप्रदेश

भोपाल। विधानसभा चुनाव 2018 को लेकर एक ओर जहां प्रत्याशी चयन के लिए कांग्रेस सर्वे में जुटी है तो दूसरी ओर उसके कई दावेदार बगैर टिकट के ही मैदान में उतर आए हैं। इससे प्रदेश के कई विधानसभा क्षेत्रों में चुनावी माहौल बन गया है। जो नेता चुनावी मैदान में उतरे हैं उनमें से कुछ का दावा है कि उन्हें पार्टी की ‘ऊपर’ से हरी झंडी मिल गई है। जबकि कुछ दावेदार अपने ‘आका’ के भरोसे पर दम लगा रहे हैं। कांग्रेस ने इस बार अपने प्रत्याशियों का चयन सर्वे के माध्यम से करने का फैसला किया है लेकिन दावेदार अपनी जमीन बनाने के लिए क्षेत्र में सक्रिय दिखाई देने लगे हैं।

हालांकि उनकी यह सक्रियता सर्वे में भी काम आएगी। छतरपुर, खरगोन, खंडवा, अशोकनगर, राजगढ़ से लेकर भोपाल तक दावेदारों के मैदान में उतरने से कांग्रेस की चुनाव में मौजूदगी दिखाई देने लगी है। कुछ विधानसभा क्षेत्र ऐसे भी हैं जहां दो या दो से ज्यादा दावेदार हैं और वे सभी अभी से मैदान उतर आए हैं।

दो दर्जन नेताओं को फिर से टिकट मिलने की उम्मीद

सूत्रों के मुताबिक पार्टी में सैद्धांतिक रूप से तय हुआ है कि 2013 के चुनाव में 5 हजार से कम वोट से हारे प्रत्याशियों को प्राथमकिता में रखा जाएगा। ऐसे करीब दो दर्जन नेताओं को फिर से टिकट मिलने की उम्मीद जागी है। इनमें अशोकनगर, बड़वारा, बरघाट, ब्यावरा, छतरपुर, दमोह, दिमनी, गुन्नौर, ग्वालियर पश्चिम, हटा, जबलपुर पूर्व, जौरा, कुरवाई, महेश्वर, मलहरा, मनावर, मांधाता, सोनकच्छ, सीधी, शमशाबाद, शाजापुर, सरदारपुर, सैलाना, पौहरी, मेहगांव विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों या उनके समर्थित नेता को टिकट मिलने की संभावना है।

इन क्षेत्रों में दावेदार अभी से हो गए सक्रिय

राजधानी की नरेला, दक्षिण पश्चिम, मध्य, हुजूर जैसे विधानसभा क्षेत्रों में डॉ. महेंद्र सिंह चौहान, मनोज शुक्ला, प्रवीण सक्सेना, अमित शर्मा, विभा पटेल, पीसी शर्मा, गोविंद गोयल, नासिर इस्लाम, मांडवी चौहान, आभा सिंह, अवनीश भार्गव, मखमल सिंह मीणा जैसे नेता सक्रिय हैं। छतरपुर जिले की बिजावर सीट से प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पूर्व महामंत्री संगठन प्रभारी चंद्रिका प्रसाद द्विवेदी गांव-गांव दौरे का एक राउंड पूरा कर चुके हैं। खंडवाखरगोन में भी सचिन यादव, विजयलक्ष्मी साधौ जैसे विपरीत ध्रुव की सक्रियता से कांग्रेस का विधानसभा चुनावी माहौल बन गया है। राजगढ़ की ब्यावरा सीट से हारे प्रत्याशियों में रामचंद्र दांगी भी इन दिनों क्षेत्र में होने वाले कार्यक्रमों में पहुंचकर अपनी मौजूदगी दिखाने का कोई मौका नहीं चूक रहे हैं।