मुख्यमंत्री शिवराज को आया गुस्सा, यहाँ के 13 कर्मचारियों को किया सस्पेंड

भोपाल मध्यप्रदेश
भोपाल। सीएम शिवराज सिंह ने  ‘मुख्यमंत्री संबल योजना’ के तहत 13 कर्मचारी इसके शिकार हो गए। ग्वालियर में 11 जूनियर इंजीनियर्स को सस्पेंड कर दिया गया जबकि सीधी में 2 ग्राम पंचायत रोजगार सहायकों की सेवाएं समाप्त कर दी गईं। ग्वालियर में निलंबित किये गए जूनियर इंजीनियरों में सुबोध सिंह, राकेश शर्मा, सौरभ सिंह, गिरीश श्रीवास्तव निखिल शर्मा ,ओमप्रकाश शर्मा, दिनेश गुप्ता,अशोक कुमार शर्मा , महेश कुमार गौतम,सहित दो एनी जूनियर इंजीनियर के नाम शामिल है।
सीधी में 2 रोजगार सहायकों की सेवा समाप्त
मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद सीधी हलधर मिश्रा ने आदेश जारी कर ग्राम पंचायत बरमबाबा के ग्राम रोजगार सहायक राजेश्वर जैसवाल एवं ग्राम पंचायत बेन्दुआ के ग्राम रोजगार सहायक अजय कुमार मिश्रा की संविदा सेवा तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी है। श्री मिश्रा ने बताया कि उक्त रोजगार सहायकों को निरंतर लैखिक एवं मौखिक निर्देश देने के बावजूद भी असंगठित श्रमिकों के पंजीयन के कार्य में लापरवाही बरती गयी जिसके कारण कई पात्र श्रमिक आज भी पंजीयन से वंचित हैं। पंजीयन नहीं होने के कारण कई हितग्राही शासन की योजनाओं का लाभ लेने से वंचित हैं।
श्री मिश्रा ने बताया कि ग्राम बेन्दुआ की सुशमा तिवारी के पति स्व. शैलेन्द्र तिवारी ने दिनांक 16.04.2018 को असंगठित श्रमिक के पंजीयन के लिए आवेदन किया गया था किन्तु रोजगार सहायक द्वारा उसके पंजीयन की कार्यवाही पूर्ण नहीं की गयी। श्री शैलेन्द्र तिवारी का दिनांक 07.06.2018 को आकस्मिक निधन हो गया किन्तु पंजीयन के अभाव में शासन द्वारा दी जाने वाली राशि से पात्रता होने के बाद भी उनकी आश्रित पत्नी वंचित हैं।
संबल के कारण पुराने चिट्ठे भी खुल गए
इसके साथ ही उक्त ग्राम रोजगार सहायकों द्वारा प्रधानमंत्री आवास के हितग्राहियों की स्वीकृत, जियो टैगिंग, आवास निर्माण समय से पूर्ण नहीं कराया जाना, द्वितीय एवं तृतीय किस्तों के प्रदाय में विलंब, स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत शौचालय निर्माण, सामाजिक सुरक्षा पेंशन की स्वीकृत, आधार फीडिंग आदि में घोर लापरवाही बरती गयी है, जिसके कारण उक्त ग्राम रोजगार सहायकों की संविदा सेवा तत्काल प्रभाव से समाप्त की गयी है।