shruti-sharma

Lady Don बनने की चाहत में रीवा की इस लड़की ने भोपाल में कर डाला घिनौना काम, Video वायरल

क्राइम भोपाल मध्यप्रदेश रीवा

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के एक निजी मेडिकल कॉलेज के छात्र को अमानवीय प्रताडऩा देकर आत्महत्या करने के लिए उकसाने वाली गिरोह की मुखिया सहित 3 आरोपी अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। मेडिकल कॉलेज में पढ़ाई कर रहे बैतूल जिले के निवासी यश पाठे ने प्रताडऩा के कारण 13 जून की रात बैतूल के चंद्रशेखर वार्ड में अपने मौसेरे भाई के घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी।

छात्र की मौत के बाद परिजन ने रैगिंग और आधा दर्जन लोगों पर मारपीट करने का आरोप लगाया था। बैतूल की कोतवाली पुलिस ने घटना के 11 दिन बाद एक युवती श्रुति शर्मा सहित 5 लोगों के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज कर दो आरोपियों गौरव दुबे और आकाश सोनी को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने विवेचना के बाद पाया कि छात्र यश पाठे की बेरहमी से पिटाई करने वाली गिरोह की सरगना रीवा निवासी सेवानिवृत्त मध्यप्रदेश विधानसभा सचिव की बेटी श्रुति शर्मा है।

उसके साथ भोपाल निवासी शालीन उपाध्याय और सतना निवासी कार्तिक खरे भी फरार हैं। इस गिरोह में कॉलेज के सीनियर छात्रों के अलावा बाहरी लोग भी शामिल हैं, जो छात्रों को धमकाकर रुपए वसूल कर अपने ड्रग्स जैसे नशे का शौक पूरा करते हैं। पुलिस ने यह भी खुलासा किया है कि गैंग की मुखिया श्रुति शर्मा को लेडी डॉन बनने की चाहत है और इसी के कारण वह अपना रसूख दिखाकर कॉलेजों में अपनी धमक बनाती रहती है।

दो अलग-अलग वीडियो वायरल 

पहला वीडियो छात्र की पिटाई का वायरल हुआ है। छात्र की पिटाई के वीडियो में एक युवती किसी मामले को खत्म करने की धमकी दे रही है। जबकि पुलिस की थ्यौरी यह है कि मृतक यश पर 10 हजार रुपए चुराने का आरोप लगाया गया था और इसी के कारण उसकी पिटाई की गई, लेकिन इस वीडियो में रुपए को लेकर कोई वार्तालाप ही नहीं हो रहा बल्कि किसी मामले को खत्म करने का दबाव बनाया जा रहा है।

जबकि दूसरा वीडियो उस वक़्त का है जब श्रुति नशे में राजधानी की सड़क में खुलेआम राहगीरों पर पटाखे जलाकर फेंक रही है। 

मृतक छात्र के पिता प्रहलाद पाठे का कहना है कि उन्होंने कॉलेज प्रशासन के भरोसे बेटे को छोड़ा था और यदि वहीं बाहरी लोग उसे टार्चर करने पहुंच रहे थे तो इसमें पूरी तरह से प्रबंधन दोषी है। उन्होंने आरोप लगाया कि आरोपित लोग बेहद प्रभावशाली परिवारों से ताल्लुक रखते हैं।

पूर्व विधानसभा अध्यक्ष के बेहद ख़ास थें श्रुति शर्मा के पिता
श्रुति शर्मा के पिता सत्यनारायण शर्मा रीवा के रहने वाले हैं, वे पूर्व विधानसभा अध्यक्ष रहें स्व. श्रीनिवास तिवारी के बेहद नजदीकी और मध्यप्रदेश विधानसभा में सचिव पद पर रह चुके हैं, दिग्विजय शासनकाल में इनकी नियुक्ति का मामला भी खूब सुर्ख़ियों में रहा है। वर्तमान में श्रुति के पिता की गिनती मध्यप्रदेश के प्रभावशाली व्यक्तियों में होती है।

इनमें से एक आरोपित किसी टेक्सटाइल मिल के मालिक का बेटा बताया जा रहा है। पुलिस को सूक्ष्मता के साथ जांच कर गुनहगारों को सजा दिलानी चाहिए। कोतवाली के थाना प्रभारी राजेश साहू का कहना है कि गिरोह की सरगना सहित अन्य फरार आरोपियों की तलाश करने के लिए पुलिस की टीम भोपाल भेजी गई है। रैगिंग का मामला पहले ही सुलझ चुका है। इस कारण कॉलेज प्रबंधन को जांच के दायरे में शामिल नहीं किया गया है।