खेल के मैदान में राजनीति नहीं, बल्कि राजनीति के मैदान में खेल जरूर होना चाहिए : Jyotiraditya Scindia 1

खेल के मैदान में राजनीति नहीं, बल्कि राजनीति के मैदान में खेल जरूर होना चाहिए : Jyotiraditya Scindia

Madhya Pradesh Gwalior

मुरैना। ग्वालियर-चंबल अंचल के दौरे पर निकले पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शनिवार को एक बार फिर अपने बयान से सियासी हलकों में चर्चाओं को हवा दे दी। मुरैना के एक गांव में मिनी क्रिकेट स्टेडियम में जब उनके हाल ही के बयानों के बाद अन्य नेताओं के जवाबी बयान पर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि खेल के मैदान में राजनीति नहीं होनी चाहिए, पर राजनीति के मैदान में खेल जरूर होना चाहिए।

मुरैना में पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया जब करुआ गांव में बने नवीन स्टेडियम के शुभारंभ के बाद मीडिया से रूबरू हुए तो पत्रकारों ने उनसे हाल ही में प्रदेश सरकार के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के बयान को लेकर जवाब चाहा। उन्होंने इस सवाल को यह कहकर टाल दिया कि मैं बयानों को लेकर कभी कोई बयान नहीं देता।

सिंधिया से जब पूछा गया कि कर्जमाफी को लेकर उन्होंने भिंड में जो बयान दिया था उस पर सीएम कमलनाथ ने कहा है कि जनता सभी को पहचानती है। इस सवाल के जवाब में सिंधिया ने कहा कि प्रजातंत्र में सभी को अपनी बात कहने का अधिकार है। यही प्रजांतत्र की खूबी है। हर व्यक्ति को उसकी बात के लिए सम्मान मिलना चाहिए और हमें उसकी भावनाओं का सम्मान करना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज में खेल के मैदान में खड़ा हूं, मैं खेल के मैदान में राजनीतिक प्रश्नों के उत्तर नहीं देता हूं क्योंकि खेल के मैदान में राजनीति नहीं होनी चाहिए पर राजनीति के मैदान में खेल जरूर होना चाहिए।

उल्लेखनीय है कि ग्वालियर चंबल संभाग के जिलों का दौरा कर रहे सिंधिया ने हाल ही में ग्वालियर में पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा था कि कांग्रेस को अपनी वर्तमान स्थिति पर आत्मचिंतन करना चाहिए। वहीं भिंड दौरे पर किसानों के शिकायतें सुनते समय कहा था कि हमने किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ करने की घोषणा की थी, जबकि किसानों के केवल 50 हजार के ही कर्ज माफ हुए हैं।

सिंधिया की अंतर-आत्मा जाग गई, जो उन्होंने किसान के हित की बात की – अनूप मिश्रा
किसानों की कर्ज माफी को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के बयान पर पूर्व मंत्री अनूप मिश्रा ने सिंधिया का नाम लिए बिना कहा, शायद उनकी अंतर-आत्मा जाग गई। उन्हें अपने दादा-परदादा की याद आ गई, जो किसानों को अन्नादाता मानते थे। भिंड प्रवास के दौरान शनिवार को अनूप मिश्रा ने कहा कि उनके (सिंधिया) परिवार के बारे में कहा जाता है जब किसान उनके दरवाजे पर गए तो वे दौड़े आए, कहा मेरे अन्नदाता आ गए। उन्होंने अपनी वंश परंपरा को रखते हुए यह बात कही होगी।

बाढ़ और अतिवृष्टि से प्रभावित लोगों की मदद को लेकर पूर्व सांसद मिश्रा ने कहा, अभी से नहीं मनमोहन सिंह जी के समय से केंद्र की स्पष्ट नीति है कि जब तक आंकलन नहीं भेजेंगे तो केंद्र क्या करेगा। उन्होंने कहा किसान के घर में और खेतों में पानी था, लेकिन मुख्यमंत्री कमलनाथ का ऐसा बयान नहीं आया, जिसमें कहते चाहे कुछ हो जाए, किसान को राहत दी जाएगी। कर्ज माफी हुई नहीं है। इन परिस्थितियों में किसान क्या करेगा? हमारी सरकार में तो शिवराज सिंह सीधी घोषणा करते थे। उन्होंने कहा कि कर्ज माफी में देरी को लेकर भोपाल और सभी जिलों में आंदोलन की रूपरेखा बन रही है।

खराब सड़कों पर बोले, ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करें
प्रदेश में खराब सड़कों को लेकर पूर्व सांसद मिश्रा ने कहा कांग्रेस सरकार अपनी जिम्मेदारी से हट नहीं सकती। सड़कें हमने बनवाईं, अगर 5 साल से पहले खराब हुई तो पेनल्टी लगाएं, ठेकेदार को ब्लैक लिस्ट करें। मिश्रा ने प्रदेश सरकार से सवाल किया कि खराब सड़कें बनाने वाले कितने ठेकेदारों का कुर्की वारंट निकला क्या। प्रेस कॉन्फ्रेंस में अवधेश सिंह, पूर्व विधायक मुन्ना सिंह भदौरिया, रामप्रकाश तिवारी, मायाराम शर्मा, कोक सिंह नरवरिया, अजय शर्मा आदि भाजपा नेता मौजूद रहे।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •