Bhopal Boat Capsized : गणेश विसर्जन के दौरान 2 नाव पलटी, 19 डूबे, 13 की मौत 1

Bhopal Boat Capsized : गणेश विसर्जन के दौरान 2 नाव पलटी, 19 डूबे, 13 की मौत

Madhya Pradesh Bhopal National

भोपाल। शहर में शुक्रवार अल सुबह गणेश विसर्जन के दौरान खटला पुरा घाट पर दो नाव पलटने से 13 लोगों की मौत हो गई। बताया जा रहा है कि दो नाव पर कुल 19 लोग सवार होकर गणेश विसर्जन करने पहुंचे थे। इसी दौरान वहां नाव पलट गई और सभी तालाब में डूब गए। घटना के बाद चले रेस्क्यू में 6 लोगों को बचा लिया गया। बताया जा रहा है कि मूर्ति बड़ी होने की वजह से नाव का बैलेंस बिगड़ गया और वह डूब गई। सूचना मिलने के बाद पुलिस और प्रशासन से आला अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए।

मंत्री पीसी शर्मा और पूर्व सांसद आलोक संजर भी सुबह मौके पर पहुंच गए थे। सरकार की ओर से मृतकों के परिजनों को 4-4 लाख रुपए मुआवजे की घोषणा की गई है। सभी लोग पिपलानी क्षेत्र के रहने वाले बताए जा रहे हैं। सरकार ने घटना की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं। वहीं जहांगीराबाद थाने में दो नाविकों के खिलाफ मामला भी दर्ज कर लिया गया है।

अब तक इस हादसे में 11 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इनके शव भी बरामद कर लिए गए हैं। वहीं दो लोग लापता बताए जा रहे हैं। जिनकी तलाश में एसडीआरएफ रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहा है।

मृतकों के नाम व पते:-

1- परवेज़ पिता सईद खान उम्र 15 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

2- रोहित मौर्य पिता नंदू मौर्य उम्र 30 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

3- करण पिता…… उम्र 16 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

4- हर्ष पिता ….. उम्र 20 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

5-सन्नी ठाकरे पिता नारायण ठाकरे उम्र 22 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

6- राहुल वर्मा पिता मुन्ना वर्मा उम्र 30 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

7- विक्की पिता रामनाथ उम्र 28 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

8-विशाल पिता राजू उम्र 22 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

9-अर्जुन शर्मा पिता……उम्र 18 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

10-राहुल मिश्रा पिता ……उम्र 20 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

11- करण पिता पन्नालाल उम्र 26 साल निवासी 1100 क्वाटर पिपलानी।

सीएम कमलनाथ ने दिए मजिस्ट्रियल जांच के आदेश
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भोपाल के खटला पुरा घाट पर गणेश विसर्जन के दौरान हुए नाव हादसे को बेहद दुखद बताते हुए इस घटना की मजिस्ट्रियल जांच के निर्देश दिये है। उन्होंने कहा है सरकार हर पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। उनकी हर संभव मदद की जाएगी।

हादसे के बाद से ही परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। उन्हें ढांढस बंधाने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, विधायक विश्वास सारंग, पूर्व महापौर कृष्णा गौर भी हमीदिया अस्पताल पहुंचीं। इस मौके पर शिवराज सिंह ने कहा कि अगर प्रशासन और मुस्तैद होता तो इस तरह की घटना नहीं होती। वहीं कमलनाथ सरकार के मंत्री पीसी शर्मा, विधायक आरिफ मसूद भी अस्पताल में मौजूद रहे। यहां सभी मृतकों का पोस्टमॉर्टम किया जाएगा।

जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कहा कि घटना बहुत दुखद हैं। घटना की विस्तृत जांच कराई जाएगी। पता किया जाएगा कि घटना कैसे हुई। समस्त व्यवस्थाओं के बावजूद कहां कमी रह गई। उन सब तथ्यों का पता लगाया जाएगा और जो भी दोषी पाया जाएगा उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी ताकि भविष्य में इस प्रकार की घटनाओं को रोका जा सके। शर्मा ने बताया कि 6 लोगों को रेस्क्यू कर लिया गया है। राहत एवं बचाव कार्य लगातार जारी है। मंत्री ने कहा कि मृतकों के परिजनों को सरकार की ओर से चार- चार लाख और घायलों को 50-50 रुपए की अनुग्रह राशि प्रदान की जाएगी।

घटना को लेकर गंभीर लापरवाही की बात सामने आ रही है। सरकार ने हादसे की जांच के आदेश दिए हैं। बताया जा रहा है कि पहले भी यहां लोगों के डूबने की अनके घटनाएं हो चुकी है। लेकिन दो नावों में 19 लोगों के सवार होने पर उन्हें यहां कोई रोकने वाला नहीं था। गणेश विसर्जन के दौरान यहां पुलिस की ओर से भी सुरक्षा का कोई इंतजाम नहीं था।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •