रीवा: भाजपा विधायिका का आरोप, मुझे व मेरे पति को पुलिस से जान का ख़तरा

मध्यप्रदेश रीवा

रीवा। भारतीय जनता पार्टी की ओर से सेमरिया विधानसभा क्षेत्र की विधायिका श्रीमती नीलम अभय मिश्रा ने स्थानीय मंत्री एवं पुलिस प्रशासन पर अपने एवं अपने पति के जान माल के खतरे का आरोप लगाते हुए एक ज्ञापन आईजी रीवा को सौंपा है।

श्रीमती नीलम अभय मिश्रा ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि पुलिस प्रशासन स्थानीय मंत्री के दबाव में काम कर रहा है जिसमें मेरे पति के ऊपर झूठे मुकदमे कायम कराए गए हैं एवं उनकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं। श्रीमती मिश्रा ने पुलिस पर अपने व अपने पति जिला पंचायत अध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता अभय मिश्र की जान की खतरा का आरोप लगाया है।

बता ने अभय मिश्रा कुछ माह पूर्व ही भारतीय जनता पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे. तब से अभय मिश्रा एवं भारतीय जनता पार्टी के नेताओं के बीच आरोप प्रत्यारोप की राजनीति चल रही है।

यह है पूरा मामला 

सप्ताह भर पूर्व सेमरिया थानांतर्गत हुई दो आदिवासियों की मौत के मामले में कांग्रेस एवं बसपा के नेताओं ने पुलिस को जिम्मेदार बताते हुए जहां धरने पर बैठ गए थे वहीं सेमरिया थाना प्रभारी के साथ छीना-झपटी और पुलिस से बदसलूकी किए जाने सहित मारपीट की भी खबर रही। जिसके चलते सेमरिया थाने में जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा, कांग्रेस शहर अध्यक्ष मंगू समेत कई कांग्रेसी एवं बसपा नेताओं पर पुलिस ने धारा 353, 294, 506बी, 127 सहित 9 धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था और उक्त दर्ज मामले के तहत रेलवे स्टेशन में पुलिस ने दबिश देकर रविवार को जिला पंचायत अध्यक्ष की गिरफ्तारी के प्रयास किए थे, इस दौरान स्टेशन परिसर पूरी तरह पुलिस छावनी में तब्दील रहा. हांलाकि स्टेशन में पुलिस दस्ते की मौजूदगी को रीवा एसपी ने सिरे से नकार कर अपराधियों की धर पकड़ का वास्ता दिया था, परन्तु पुलिस की दबिश को जोड़ा जा रहा है। 

यह भी पढ़ें : रीवा जिपं अध्यक्ष अभय को गिरफ्तार करने स्टेशन पहुंचा भारी पुलिस बल, जानिए क्या है कारण…