पुलिस की गिरफ्त में सतना का 'नटवरलाल', 'ऐसा कोई बचा नहीं, जिसको इसने ठगा नहीं', पढ़ें पूरी खबर... 1

पुलिस की गिरफ्त में सतना का ‘नटवरलाल’, ‘ऐसा कोई बचा नहीं, जिसको इसने ठगा नहीं’, पढ़ें पूरी खबर…

Madhya Pradesh Crime Jabalpur Rewa Satna
  • 20
    Shares

ग्वारीघाट पुलिस ने 6 अप्रैल को किया था गिरफ्तार, पाटन में भी ठगी का मामला आ चुका है सामने

जबलपुर। सतना का जालसाज ज्ञानीश सोनी के कारनामे एक-एक कर सामने आ रहे हैं। निगम कर्मी बनकर उसने खमरिया थाना क्षेत्र में भी कई लोगों के खाते से हजारों की रकम पार कर दी है। गुरुवार को खमरिया थाने में उसके खिलाफ एक युवक ने धोखाधड़ी की शिकायत दर्ज करायी। इससे पहले इसी तरह की शिकायत पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर ग्वारीघाट पुलिस ने उसे छह अप्रैल को गिरफ्तार किया था। ज्ञानीश ने पाटन में भी कई लोगों को शासकीय योजना के नाम पर चपत लगायी है।

खमरिया पुलिस के अनुसार उमरिया निवासी आशु श्रीपाल ने बताया कि 29 मार्च को ज्ञानीश सोनी अपने एक अन्य साथी के साथ बाइक से उसके घर आया था। उसने खुद को निगम का कर्मी बताया और परिचय पत्र दिखाते हुए शासन द्वारा बेरोजगारों के खाते में 35-35 सौ रुपए डाले जाने की बात कही। फिर उसने बैंक पासबुक, आधार कार्ड आदि लेकर बुलवाया और लैपटाप से अंगूठा स्कैन कर बोला कि 24 अप्रैल तक सभी के खाते में पैसे डल जाएंगे। बोला कि 25 को वह फिर से गांव में आएगा। इस तरह से उसने कई लोगों से खाता नम्बर, मोबाइल नम्बर आदि जानकारी अंगूठा स्कैन कर लेता गया। दो अप्रैल को सपना बाइ नाम की युवती खाते से रुपए निकालने गयी तो पता चला कि खाते से 5200 रुपए निकाले जा चुके हैं। जानकारी पर अन्य लोगों ने भी अकाउंट चेक किया तो उनके खाते से भी पैसे निकाले जा चुके थे। सभी 10 लोगों के खाते से 50 हजार 600 रुपए निकाले गए हैं। पुलिस ने धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज कर जांच में लिया है।

ग्वारीघाट पुलिस ने बिना रिमांड पर लिए जेल भेज दिया
ज्ञानीश के खिलाफ 2016 में सिविल लाइंस थाने में भी टीसी बनकर रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी का प्रकरण दर्ज हो चुका है। वहीं छह अप्रैल को ग्वारीघाट थाने में दुर्गा नगर भटौली निवासी दुर्गा बाई बर्मन सहित अन्य ने भी दर्ज करायी थी। वहां वह कार से निगम कर्मी बनकर पहुंचा था। पुलिस ने कार एमपी 20 सीबी 8306 के साथ ज्ञानीश को गिरफ्तार कर बिना पूछताछ किए जेल भेज दिया। जबकि ज्ञानीश ने इसी तरह की ठगी पाटन में भी की है। वहां भी वह कई लोगों के खाते से पैसे निकाल चुका है।

पूरा गिरोह है सक्रिय
ज्ञानीश ने ग्वारीघाट में अकेले ठगी की थी, लेकिन खमरिया में दर्ज करायी गई शिकायत में उसके साथ एक अन्य व्यक्ति के भी बाइक से पहुंचने की बात सामने आयी है। इससे साफ है कि एक पूरा गिरोह सक्रिय हैं।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
    20
    Shares
  • 20
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •