मध्यप्रदेश : कई सीटों पर तय हुए कांग्रेस के प्रत्याशी | LOKSABHA CHUNAV 1

मध्यप्रदेश : कई सीटों पर तय हुए कांग्रेस के प्रत्याशी | LOKSABHA CHUNAV

Madhya Pradesh

भोपाल. लोकसभा  चुनाव के तारीखों के एलान के साथ ही अब उम्मीदवारों के नाम पर मंथन शुरू हो गया है। कांग्रेस ने कई सीटों पर उम्मीदवारों के नाम तय किए हैं तो कई सीटों पर नामों को लेकर अभी भी संशय बना हुआ है। बताया जा रहा है कि कई सीटों पर दो से ज्यादा नाम हैं जिस कारण से स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक फिर से होगी। बता दें कि दिल्ली में सोमवार रात तक चली कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक में कुछ प्रत्याशियों के नाम पर सहमति तो बन गयी है। हांलाकि नामों की घोषणा कब होगी अभी तक ये साफ नहीं हो सका है।

सोनिया गांधी के आवास पर बैठक
सोमवार को पार्टी नेता सोनिया गांधी के निवास पर कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हुई। सूत्रों का कहना है कि लोकसभा की 29 में से करीब 20 सीटों पर चर्चा हुई पर नामों पर सहमति नहीं बन पाई। वहीं, उन सीटों पर सहमति बन गई है जहां से पार्टी के सिंगल नाम भेजे थे। बैठक में शामिल हुए मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बताया कि बैठक में सीटों को लेकर सैद्धांतिक चर्चा हुई। दोबारा फिर से बैठक होगी उसमें नाम फाइनल होंगे।

घोषणा करने में जल्दी नहीं
सीएम कमलनाथ ने कहा अभी हमारे पास बहुत समय है। घोषणा करने में कोई जल्दबाजी नहीं है। बैठक में हमने तय किया है कि उम्मीदवार कैसा हो और किस पैनामे पर उम्मीदवार को टिकट दिया जाएगा। बता दें कि मध्यप्रदेश में चार चरणों में चुनाव होने है। मध्यप्रदेश में 29 अप्रैल से वोटिंग शुरू होगी।

सिंधिया का नाम तय
पहले दौर में 20 सीटों के लिए प्रत्याशियों के नाम तय होने थे। ये वो सीट हैं जिनमें प्रत्याशियों के नाम पर कोई विवाद नहीं है। इनमें गुना-शिवपुरी और झाबुआ रतलाम की सीट शामिल है। माना जा रहा है कि गुना -शिवपुरी से ज्योतिरादित्य सिंधिया एक बार फिर से लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं तो वहीं, झाबुआ-रतलाम सीट से मौजूदा सांसद कांतिलाल भूरिया के नाम तय माने जा रहे हैं। इन दो सीटों को छोड़कर बाकी सीटों पर पैनल हैं। वहीं, छिंदवाड़ा की सीट को लेकर भी संशय बरकरार है। कमलनाथ के सीएम बनने के बाद से माना जा रहा है कि इस सीट से कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ चुनाव लड़ सकते हैं।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •