newborn

MP में जनसंख्या बढ़ाने पर पुरस्कार, तीसरे बच्चे पर 50 हजार और चौथे पर 1 लाख देने की घोषणा

मध्यप्रदेश

एक ओर जहां देश की जनसंख्या नियंत्रित करने के लिए सरकार द्वारा तमाम प्रयास किए जा रहे हैं, वहीं मध्य प्रदेश में माहेश्वरी समाज के सामने उसकी तेजी से घटती जनसंख्या बड़ी समस्या बनकर उभरी है। इसके चलते अखिल भारतीय माहेश्वरी महासभा ने जनसंख्या बढ़ाने पर पुरस्कार देने की घोषणा की है।

महासभा ने देशभर के सामाजिक संगठनों को अपने स्तर पर इसके लिए प्रयास करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही देशभर में अब 12 से 18 साल की लड़कियों की काउंसलिंग करने का निर्णय भी लिया गया है। इसमें लड़कियों को सिंगल चाइल्ड के पैरेंट बनने के नुकसान भी बताए जाएंगे। बताया जाएगा कि सिंगल चाइल्ड के पैरेंट होने पर अगर किसी दुर्घटना में बच्चे की मौत हो जाती है तो तीन बच्चों के पिता होने की बजाय बिना संतान जीवन बिताना अधिक तकलीफदायक हो जाएगा। समझाया जाएगा कि माहेश्वरी समाज जैसे संपन्न समाज में दो या तीन बच्चों की देखरेख करना उतनी बड़ी चुनौती नहीं है, जितनी बिना बच्चों के जीवन यापना करना। साथ ही युवतियों को समाज में ही विवाह करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इस कड़ी में माहेश्वरी समाज मध्य राजस्थान प्रांत ने अनूठी घोषणा की है। तीसरे बच्चे पर 50 हजार, चौथे पर एक लाख और पांचवें बच्चे पर दो लाख रुपये की बच्चे के नाम एफडी करने की घोषणा की है।

सर्वे में घटी ढाई लाख तक की जनसंख्या
इंदौर जिला माहेश्वरी समाज के कार्यसमिति सदस्य रामस्वरूप मूंदड़ा के मुताबिक, तीन साल पहले देशभर में की गई जनगणना में समाज की जनसंख्या 16 लाख आई थी। अभी किए जा रहे सर्वे का काम 60 फीसद से अधिक हो चुका है, जिसमें ढाई लाख तक जनसंख्या कम होने की आशंका है। सर्वे की तारीख बढ़ाकर 30 जून की गई है। चार फीसद सालाना की कमी की बात सामने आ रही है।

2050 तक पहुंच न जाए विलुप्ति की कगार पर
अखिल भारतीय माहेश्वरी महासभा के सभापति श्याम सोनी ने बताया कि किसी भी समाज की जनसंख्या यथावत या बढ़ने के लिए 100 जोड़ों पर 220 बच्चे होना चाहिए, पर माहेश्वरी समाज में 100 जोड़ों पर 155 बच्चों का प्रतिशत है। ऐसे में 2050 तक माहेश्वरी समाज विलुप्ति की कगार पर पहुंच सकता है।

जिला और ग्रामीण स्तर पर सौंपेंगे जिम्मेदारी
माहेश्वरी सभा के अध्यक्ष प्रादेशिक राजेंद्र इंनानी ने बताया कि माहेश्वरी समाज की जनसंख्या में आई कमी चिंता की बात है। तीसरा या चौथा बच्चा होने पर सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता, यह भी समाजजन के लिए दिक्कत की बात है। ऐसे में तीसरे बच्चे पर 50 हजार और चौथे पर एक लाख की एफडी समाज की ओर से करने की घोषणा है। महेश नवमी के बाद हम जिला और ग्रामीण स्तर पर इस संबंध में जिम्मेदारियां सौंपेंगे।

जियो पारसी योजना

केंद्र सरकार ने भी पारसी समाज की घटती जनसंख्या को रोकने के लिए जियो पारसी योजना शुरू की है। इसमें पारसी जोड़ों को मुफ्त में कृत्रिम गर्भाधान की सुविधा उपलब्ध कराई है।

इन कारणों से जनसंख्या में कमी

  • उच्च शिक्षित समाज में करियर बनाने पर युवाओं का जोर अधिक है।
  • एक संतान वह भी विदेश में जाकर बस जाती है।
  • युवतियां का अंतरजातीय विवाह करना।
  • शिक्षित युवतियां शहर में विवाह को लेकर इच्छुक रहती हैं। ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले युवकों के लिए जीवन साथी की तलाश चुनौती बन गई है।
  • पहला बेटा होने के बाद दंपती दूसरी संतान के इच्छुक नहीं रहते हैं। ऐसे में लड़कियों की संख्या में भी कमी आई है।
Tagged