भाजपा के सांसद जनार्दन मिश्र, रीति पाठक सहित 22 मांग रहे विधायक की टिकट तो कांग्रेस में पांच पिता मांग रहे टिकट1 min read

Madhya Pradesh

भोपाल: टिकटों की मारा-मारी के बीच भाजपा-कांग्रेस के आला नेताओं के सामने वंशवाद की चुनौती खड़ी हो गई है। दोनों ही दलों के मौजूदा फीडबैक में चौंकाने वाले तथ्य मिले हैं। भाजपा सरकार में मंत्री और 22 सांसद या तो खुद या फिर प|ी, बेटा-बेटी के लिए टिकट का दावा कर चुके हैं, जबकि कांग्रेस में भी पिता-पुत्र दावेदारी जता रहे हैं। दोनों दलों के आला नेता असमंजस में हैं कि किस क्राइटेरिया को आधार बनाकर इन दावेदारों की छंटनी की जाए।

सबसे पहले बात भाजपा के 22 सांसदों की। इंदौर सांसद सुमित्रा महाजन बेटे मंदार, राज्यसभा सांसद प्रभात झा बेटे तुष्मुल, ग्वालियर सांसद नरेंद्र सिंह तोमर बेटे देवेंद्र उर्फ रामू, सतना सांसद गणेश सिंह भाई उमेश प्रताप सिंह, मुरैना सांसद अनूप मिश्रा ग्वालियर पूर्व से खुद के लिए टिकट मांग रहे हैं। सागर सांसद लक्ष्मीनारायण यादव बेटे सुधीर के लिए सुरखी या सिरोंज से, टीकमगढ़ सांसद वीरेंद्र कुमार प|ी के लिए जतारा से, दमोह सांसद प्रह्लाद सिंह पटेल अपने भाई (जो कि मप्र सरकार में मंत्री हैं) की प|ी के लिए जबेरा से, खजुराहो सांसद नागेंद्र सिंह खुद के लिए, रीवा सांसद जनार्दन मिश्र सेमरिया से, सीधी से सांसद रीति पाठक सीधी या सिहावल से, शहडोल सांसद ज्ञान सिंह (इनके बेटे विधायक हैं) खुद बांधवगढ़ से, मंडला सांसद फग्गन सिंह कुलस्ते खुद के लिए, होशंगाबाद सांसद राव उदय प्रताप सिहं तेंदूखेड़ा या सिवनी मालवा से, भोपाल सांसद आलोक संजर मध्य सीट से, राजगढ़ सांसद रोडमल नागर नरसिंहगढ़ सीट से, देवास सांसद मनोहर ऊंटवाल आगर मालवा या आलोट से, उज्जैन सांसद चिंतामणि मालवीय घट्टिया सीट से, सांसद सुधीर गुप्ता मंदसौर से, खंडवा सांसद नंदकुमार सिंह चौहान मंधाता से, बैतूल सांसद ज्योति धुर्वे घोड़ाडोंगरी से, राज्यसभा सांसद अजय प्रताप सिंह चुरहट सीट से खुद दावेदारी जता रहे हैं।

विधायक बनाने की होड़

Áउज्जैन : पूर्व सांसद प्रेमचंद गुड्डू खुद आलोट या खंडवा से और बेटे अजीत बौरासी के लिए भी आलोट से टिकट मांग रहे हैं।

Áझाबुआ : सांसद कांतिलाल भूरिया बेटे विक्रांत के लिए इसी सीट से जोर लगा रहे हैं।

Á धार : पूर्व सांसद गजेंद्र सिंह राजूखेड़ी खुद धार सीट से टिकट मांग रहे हैं और बेटे चंद्रपाल सिंह को मनावर से उतारना चाहते हैं।

Á इंदौर-3 : पूर्व मंत्री महेश जोशी बेटे दीपक के लिए टिकट मांग रहे हैं, जबकि यहां उनके भतीजे अश्विन जोशी भी दावेदार हैं।

Á राजनगर : पूर्व सांसद सत्यव्रत चतुर्वेदी बेटे नितिन चतुर्वेदी को टिकट दिलाना चाहते हैं।

Á सांची : मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार बेटे मुदित के लिए किसी अन्य सीट से टिकट को जुटे हैं।

Á महू : इसी तरह राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय बेटे आकाश के लिए जुटे हुए हैं।

Áबालाघाट : मंत्री गौरीशंकर बिसेन अपनी बेटी मौसमी व प|ी रेखा के लिए सक्रिय हैं।

Áदमोह : मंत्री जयंत मलैया बेटे सिद्धार्थ के लिए टिकट की तैयारी में लग गए हैं।

Áरहली : मंत्री गोपाल भार्गव बेटे अभिषेक को देवरी से टिकट दिलाने की तैयारी कर रहे हैं।

Á रामपुर बघेलान: मंत्री हर्ष सिंह बेटे विक्रम सिंह के लिए दावेदारी जता चुके।

तो राकेश-मुकेश को क्यों नहीं?

पिछले चुनाव में कांग्रेस से भाजपा में आए चौ. राकेश सिंह चतुर्वेदी भाई मुकेश के लिए टिकट मांग रहे हैं। मुकेश भी विधायक हैं। राकेश ने पार्टी संगठन से कह दिया है कि जिस तरह मंत्री विजय शाह के भाई संजय को टिकट मिला था, उसी तरह मुझे और मुकेश को भी टिकट दिया जा सकता है।

कांग्रेस

भाजपा

Facebook Comments