रीवा : ये सीट तय करेगी भाजपा का भविष्य1 min read

Madhya Pradesh

भोपाल। मध्यप्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा और कांग्रेस में बराबर की टक्कर चल रही है। जहां भाजपा 15 साल की सत्ता के दम पर फिर से प्रदेश की गद्दी हासिल करने की कोशिश में लगी हुई है, वहीं कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए कवायद कर रही है। इस बार के विधानसभा चुनाव कई मामलों में खास होने वाले हैं। दरअसल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को जहां फिर से सत्ता में लाने के लिए कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, वहीं कांग्रेस व्यापम, एससी—एसटी एक्ट जैसे मुद्दे उठाकर मतदाताओं को मोहने की कोशिश कर रही है।

इन सभी चुनावी चक्कलस के बीच राज्य में कुछ सीटें ऐसी हैं, जो विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत और हार तय कर सकती हैं। इन सीटों पर जीतने का मतलब सत्ता की चाबी अपने हाथ में लेना है। राज्य में 28 नवंबर को विधानसभा चुनाव होने हैं। मध्यप्रदेश में कुल 231 सीटें हैं और इनमें से 22 सीटें ऐसी हैं, जो भाजपा के लिए मुसीबत खड़ी कर सकती हैं। आइए जानते हैं ऐसी सीटों के बारे में…

सतना सीट— सतना में 7 विधानसभा सीटें हैं, जिनमें से 5 पर कांग्रेस का कब्जा है। ऐसे में अब यह देखना दिलचस्प होगा कि बीजेपी इस बार क्या यह सीट पा पाती है या नहीं।

रीवा— रीवा जिलें में 8 सीटें हैं। हालांकि इनमें से 5 पर बीजेपी का और 2 पर कांग्रेस का कब्जा है। लेकिन इस बार यहां पर बीजेपी का खेल बिगड़ सकता है। दरअसल, रीवा के महाराज मार्तंड सिंह के बेटे पुष्पराज सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए हैं। जो भाजपा के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं।

सिंगरौली— सिंगरौली में तीन विधानसभा सीटें हैं। इनमें से दो पर भाजपा और एक पर कांग्रेस का कब्जा है। हालांकि इस बार जो स्थितियां हैं, उससे यह आंकड़ा पलट सकता है।

सीधी— सीधी में 4 विधानसभा सीटे हैं। इनमें से दोनों पार्टियों के पास दो—दो सीटें हैं। यहां पर कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह का दबदबा माना जाता है। इसलिए इस बार बीजेपी के लिए यहां पर मुसीबत खड़ी हो सकती है।

Facebook Comments