यहां के पत्थरों को कीडे़ कुतरकर बना देते हैं भगवान, पूजे जाते हैं घर-घर...

यहां के पत्थरों को कीडे़ कुतरकर बना देते हैं भगवान, पूजे जाते हैं घर-घर…

लाइफस्टाइल

यहां के पत्थरों को कीडे़ कुतरकर बना देते हैं भगवान, पूजे जाते हैं घर-घर…

कहा जाता है कि भगवान तो कण-कण में होते हैं। यह बात सत्य तब हो जाती है जब एक नदी के मिलने वाले पत्थर के बडे़ कण को लोग भगवान मानकर उसकी पूजा शुरू कर देते हैं। यह आज से नही कई हजार वर्षों से चल रहा है। वही आज कें विज्ञानी लोगों का मानना है कि उस नदी के पत्थर को कीडे़ कुतर कार एक स्वरूप में बदल देते हैं और लोग उन पत्थरों को भगवान मानकर पूजा करने लगते हैं। उन्हे ठाकुर जी कहा जाता है।

घर आये और गोली चलाई, बेटा नहीं मिला तो उसकी मां को मार दी गोली, हो गई मौत…

जिस नदी में यह इस तरह के पत्थर पाये जाते हैं उस नदी को गंडक कहते हैं। यह नदी हिमालय से निकलकर नेपाल के रास्ते कुशीनगर होकर बिहार के सोनपुर के पास गंगा में मिल जाती है। इस नदी के कई नाम हैं। इसे गंडकी के अलावा, नारायणी, गंडक, शालिग्रामी, सप्तगंडकी कहा जाता है।


यहां के पत्थरों को कीडे़ कुतरकर बना देते हैं भगवान, पूजे जाते हैं घर-घर...

इस नदी में मिलने वाले इन पत्थरों को लोग भगवान विष्णु का रूप माना जाता है। और इनकी पूजा घर-घर में होती हैं। इसके पीछे एक पौराणिक कथा भी है। जिसमें बताए अनुसार एक पतिव्रत स्त्री जिसका नाम वृंदा था। वृंदा ने भागवान विष्णु को स्राप दिया था कि आप गंडकी नदी के पत्थर हो जाओ। तब से लोग इस गंडकी नदी के पत्थर को भगवान विष्णु का रूप मानकर पूजा करते हैं।

मध्यप्रदेश में ड्रग्स माफिया के खिलाफ सबसे बड़ी कार्यवाही, 70 करोड़ रुपये का ड्रग्स जब्त..

सतना: बकिया गांव में मृत कौओं के मिलने से फैली दहशत?

कांग्रेस नेता के घर पुलिस का छापा, निकला तलवार का जखीरा

ट्रायल के रूप में 8 जनवरी से पटरियों में दौड़ेगी ललितपुर-खजुराहो स्पेशल ट्रेन

यहाँ क्लिक कर RewaRiyasat.Com Official Facebook Page Like

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *