छठ पर्व के आखिरी दिन सूर्यदेव को अर्घ्य देकर की पूजा-अर्चना

छठ पर्व के आखिरी दिन सूर्यदेव को अर्घ्य देकर की पूजा-अर्चना

लाइफस्टाइल

छठ पर्व के आखिरी दिन सूर्यदेव को अर्घ्य देकर की पूजा-अर्चना

रीवा। छठ पूजा देश के उत्तर-पूर्व भाग में धूमधाम से मनाया जाता है। संतान एवं परिवार की सुख समृद्धि के लिए छठ महापर्व के चार दिन के अनुष्ठान में आखिरी दिन शनिवार को छठ व्रतियों ने नदी घाट मंे पहुंचकर सूर्य देव की पूजा अर्चना की। कोरोना को लेकर सरकार की विशेष गाइड लाइन के बावजूद हर्षोल्लास के साथ पर्व को मनाया गया।

छठ में सूर्य को अर्घ्य देना आवश्यक होता है। इसलिए छठ व्रतियों ने सुबह नदी घाट पर पहुंचकर उगते सूर्य को अघ्र्य दिया। छठ मुख्य रूप से सूर्य की आराधना का पर्व है। जिसे हिन्दू धर्म में विशेष स्थान प्राप्त है। भारत में सूर्योपासना प्रसिद्ध है। प्रातःकाल में सूर्य की पहली किरण और सायंकाल में सूर्य की अंतिम किरण को अघ्र्य देकर दोनों को नमन किया जाता है।

मुख्य रूप से सूर्य षष्ठी व्रत होने के कारण इसे छठ कहा गया है। पारिवारिक सुख-समृद्धि तथा मनोवांछित फल प्राप्ति के लिये यह पर्व मनाया जाता है। स्त्री और पुरुष इस पर्व को समान रूप से मनाते हैं। रीवा जिले के साथ ही सतना, सीधी, शहडोल, उमरिया, कटनी आदि जगहों पर यह पर्व मनाया गया।

अस्पताल में डॉक्टर और मरीज के अटेडर के बीच हुई मारपीट, तोड़फोड की भी हुई घटना

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *