पति नहाता नही था,गीली टॉबिल बेड में फेंक देता था, शरीर मे परफ्यूम लगाकर महीनों रहता था, जज साहब मुझे तलाक़ चाहिए... 1

पति नहाता नही था,गीली टॉबिल बेड में फेंक देता था, शरीर मे परफ्यूम लगाकर महीनों रहता था, जज साहब मुझे तलाक़ चाहिए…

Health Lifestyle
  • 57
    Shares
आजकल रिश्तों में हर छोटी सी बात पर दरार आ जाती है. छोटी से छोटी बात पर लोग तलाक ले लेते हैं. अब तक आपने बहुत से ऐसे किस्से सुने होंगे, जिसमें छोटी सी बात को लेकर तलाक ले लिया गया हो, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे तलाक की अर्जी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिससे आप काफी हैरान हो जाएंगे. मध्य प्रदेश के बैरागण में एक दंपति ने तलाक की अर्जी डाली है। इस अर्जी में पत्नी ने ऐसे-ऐसे तलाक के रीजन बताए हैं, जो लड़कों में काफी आम आदते हैं।

तलाक की इस अर्जी में पत्नी ने बताया कि वे अपने पति के रहन-सहन के तरीकों से खुश नहीं है. अर्जी में पत्नी ने पति पर आरोप लगाया कि उसका पति नहाता नहीं है, उसके शरीर के बू आती है. जब भी नहाता या फिर मुंह धोता है तो गीला तौलिया बेड पर फेंक देता है. और ना ही कभी शेविंग करता.

इस तलाक की अर्जी की काउंसलिंग कर रहे शैल अवस्थी ने बताया कि दोनों दंपत्ति ने 2016 में शादी की है. शैल अवस्थी को पता चला कि लड़की ब्राह्मण समाज की है और लड़का सिंधी समाज का. शादी के एक साल तक दोनों के बीच काफी अच्छा चला, लेकिन एक साल बाद पति की आदतों से परेशान होकर पत्नी ने पति को आदत सुधारने के लिए बोलना शुरू किया. जिसकी वजह से दोनों के बीच झगड़ा होना शुरू हो गया और बात तलाक तक आ पहुंची।

काउंसलर को महिला ने बताया कि उसके पति का रहने का तौरा-तरीका ठीक नहीं है. साफ़-सफाई पर उसका पति बिलकुल ध्यान नहीं रखता. ना तो शेविंग करता है और ठंड के सीजन में तो कई महीनों तक नहीं नहाता. अपने शरीर का बदबू छिपाने के लिए परफ्यूम लगा लेता है. गीला टॉवेल भी बेड पर फेंक देता है।

वहीं, इस मामले में पति ने काउंसलर से कहा, “मैं पत्नी के हाथ का कोई खिलौना नहीं हूं, जिसे जैसा चाहे वो खिलाए. मुझे कैसे जीना है ये मैं जानता हूं और खुद तय कर लूंगा.” इस अर्जी में सबसे हैरान करने वाली बात ये है कि इस मामले को लेकर दोनों दंपत्ति अड़े हुए हैं और तलाक चाहते हैं. ये मामला फिलहाल कोर्ट तक नहीं पहुंचा है।

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
    57
    Shares
  • 57
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •