2 भाई एक साथ बने IAS; सपना मां-बाप ने देखा पूरा बेटों ने किया, मां रातभर जागकर कढ़ाई करती-पिता सिलाई करते, ताकि बेटों की पढ़ाई में कोई कसर न रह जाए

Lifestyle Madhya Pradesh National
  • 281
    Shares

झुंझुनूं शहर के मोदी रोड पर रहने वाले सुभाष कुमावत और उनकी पत्नी राजेश्वरी देवी के चेहरे पर आज एक सुकून है। आंखों में एक गहराई सी है जो खुशियों से इतनी भरी है कि खुशी के आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। घर में बधाइयां देने वालों का तांता लगा है और वे सबसे बड़ी विनम्रता के साथ मिल रहे हैं। हिचकिचाते से, ठिठकते से। ऐसा ही होता है जब किसी की बरसों की मेहनत, दिनरात जागने की तपस्या और हर पल संघर्ष, एक बड़ी सफलता में बदलता है। सुभाष सिलाई का काम करते हैं और राजेश्वरी देवी बंधेज बांधने का। उनके तीन बेटों में से दो का सिविल सर्विसेज में चयन हुआ है।

शुक्रवार को यूपीएससी की ओर से घोषित परिणाम में उनके बड़े बेटे पंकज कुमावत ने 443वीं और छोटे बेटे अमित कुमावत ने 600वीं रैंक प्राप्त की है। सुभाष कुमावत गुढ़ा मोड़ पर टेलरिंग का काम करते हैं। परिवार में दूसरा कोई आज तक सरकारी नौकरी में नहीं गया। पंकज कुमावत ने आईआईटी दिल्ली से मैकेनिकल में बीटेक किया। कुछ समय नोएड़ा की प्राइवेट कंपनी में नौकरी भी की। छोटे भाई अमित को भी अपने साथ रखा। उसने भी आईआईटी दिल्ली से बीटेक किया। दोनों दिल्ली में पढ़ाई करते रहे। दोनों का एक ही सपना था कि किसी भी तरह देश की इस सबसे बड़ी परीक्षा में सफल होना है। माता-पिता का सपना पूरा करना है। आज दोनों ने एक साथ यह सपना पूरा कर दिखाया।

पंकज व अमित बोले-हमारे लिए पढ़ना आसान था, माता-पिता के लिए पढ़ाना बहुत मुश्किल
पंकज व अमित ने बताया कि हम जानते हैं, हमें माता पिता ने कैसे पढ़ाया। हमारे लिए पढ़ना आसान था, लेकिन उनके लिए पढ़ाना बेहद मुश्किल। वे हमारी फीस, किताबों और ऐसी दूसरी चीजों का इंतजाम कैसे करते थे। इस बात को हम सिर्फ महसूस कर सकते हैं। इसका संघर्ष तो उन्होंने ही किया। घर की स्थिति कुछ खास नहीं थी। हम चार भाई बहनों को पढ़ाने के लिए मम्मी पापा सिलाई करते। घर पर रातभर जागते। मां तुरपाई करती और पापा सिलाई। वे हमेशा हमसे कहते कि तुम लोगों को पढ़कर बड़ा आदमी बनना है। यह सपना उन्होंने देखा। हमने तो बस उसे पूरा किया है। आज परिवार की स्थिति ठीक है, लेकिन हम यही कहना चाहते हैं कि कमियों, परेशानियों और नकारात्मक चीजों को कभी आड़े नहीं आने देना चाहिए। हमारी सफलता के लिए माता पिता बड़े सपने देखते हैं उन्हें पूरा करने के लिए सबसे जरूरी केवल मेहनत होती है। इसके बाद सफलता अपने आप मिलती है।

कुमावास के निकास का पहले प्रयास में चयन
जिले के कुमावास (खीचड़ान) के निकास कुमार का भी सिविल सर्विसेज में चयन हुआ है। गुरुग्राम में बिजनेस कंसलटेंट के पद पर कार्यरत निकास का प्रथम प्रयास में ही आईएएस में चयन हुआ है। उन्होंने 518वीं रैंक हासिल की। खेती का काम करने वाले शीशराम खीचड़ के बेटे निकास ने दिल्ली से बीटेक किया है। माता विद्या देवी गृहिणी हैं। छोटे भाई विकास कुमार वायुसेना में हैं

Facebook Comments
Please Share this Article, Follow and Like us:
  •  
    281
    Shares
  • 281
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •