2021/05/narse.jpg

Jabalpur : कोरोना योद्धाः स्टाफ नर्स की कोरोना से मौत, सम्मान और आर्थिक मदद की मांग पर अड़ा स्टाफ

RewaRiyasat.Com
Viresh Singh Baghel
03 May 2021

जबलपुर (Jabalpur News) :  मरीजों की देखभाल करने वाली नर्स की कोरोना से मौत हो जाने के बाद अस्पताल का नर्सिग स्टाप सम्मान और आर्थिक मदद की मांग पर को लेकर आक्रोशित हो गया।

यह मामला प्रदेश के जबलपुर जिले के नेताजी सुभाषचंद्र बोस मेडिकल कॉलेज का है। जहा कोरोना से जंग लड़ते हुए 40 वर्षीय नर्स मीता की मौत हो गई। पेइंग वार्ड में ड्यूटी के दौरान उन्हें कोरोना हुआ था, जिसके बाद हफ्ते भर पहले वे मेडिकल कॉलेज के हॉस्पिटल में भर्ती हुईं थीं। हालात बिगड़ने पर उन्हें सुपर स्पेशयालिटी हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया, जहा उन्होंने दम तोड़ दिया। 

आक्रोशित हो गया स्टाप

साथी नर्स की मौत से आहत नर्सिंग संगठनों ने मेडिकल कॉलेज में हंगामा करते हुए मृतका को कोरोना योद्धा सम्मान के साथ परिवार के एक सदस्य को नौकरी और 55 लाख रुपए की सहायता राशि देने की माँग की, ताकि भविष्य में बच्चों के भरण-पोषण में कठिनाई का सामना न करना पड़े। 

पढ़ाई करने के बाद वही दे रही थी सेवा

साथी नर्सिंग स्टॉफ के मुताबिक मीता लगभग 18 वर्षों से मेडिकल कॉलेज में सेवाएँ दे रहीं थीं। उन्होंने मेडिकल कॉलेज में ही ट्रेनिंग पूरी की थी और उसके बाद यहीं स्टॉफ नर्स के रूप में कार्य कर रहीं थीं। जानकारी के मुताबिक इसके पहले नर्स सरिता मरावी और सीमा विनीत ने कोरोना संक्रमण से जान गंवाई थी।

पति की बिगड़ी तबियत

नर्सिग स्टाफ के मुताबिक कोरोना से जान गंवाने वाली स्टाफ नर्स के संक्रमित होने के बाद उनके पति और सास कोरोना की चपेट में आ गए थे। पति की हालत गंभीर होने पर मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया है। नीता की मौत के बाद सात साल का बेटा और डेढ़ साल की बेटी के सिर से माँ का साया छिन गया है।

SIGN UP FOR A NEWSLETTER