जब लता मंगेशकर को जान से मारने की गई थी कोशिश, बीते थे 3 महीने बिस्तर पर, फिर...

जब लता मंगेशकर को जान से मारने की गई थी कोशिश, बीते थे 3 महीने बिस्तर पर, फिर…

एंटरटेनमेंट

जब लता मंगेशकर को जान से मारने की गई थी कोशिश, बीते थे 3 महीने बिस्तर पर, फिर…

मुंबई। स्वर कोकिला के नाम से मशहूर लता मंगेशकर आज किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। देश ही नहीं विदेशों में भी इनके चाहने वाले मौजूद हैं। इनकी अवाज का जादू चारों दिशाओं को गुंजायमान कर रहा है। लेकिन इनके निजी जीवन के संघर्षों के बारे में कम ही लोगों को पता है।

जानकारी के अनुसार एक बार लता जी को किसी ने जहर देकर मारने का प्रयास किया था। ऐसे में उनकी हालत ऐसी हो गई थी कि 3 माह तक उन्हे बिस्तर पर ही बिताने पडे थे। लेकिन उनके चाहने वालों की दुआएं और सहयोगियों के आत्मबल ने उन्हे पुनः खडा कर दिया।

अक्षय कुमार और अमिताभ बच्चन के बॉडीगार्ड की सैलरी सुन उड़ जाएंगे आपके होश….

फैमली के डाक्टर कपूर ने किया था इलाज

लताजी जानकारी शेयर करते हुए बताती हैं कि इस जहर की वजह से बीमार पड़ने पर उनका इलाज डा. कपूर ने किया था। उनका कहना था कि वह जल्दी ही सब ठीक कर देेंगे। उन्होने ही बताया था कि लता जी को धीमा जहर दिया गया था।

जब मुकेश अंबानी के बेटे ने शाहरुख खान की कर दी बोलती बंद, कहा बहुत हुआ…

उनका कहना है जीवन के हर उतार चढाव में वह उनकी जिंदगी का सबसे भयानक दौर था। यह घटना लगभग 1963 के आसपास की है। धीमें जहर के असर की वजह से इतनी कमजोरी महसूस होने लगी कि वह बेड से भी नही उठ पाती थी।

मजरूह सुल्तान पुरी ने दी हिम्मत

लता मंगेशकर अपने इस बिपदा के समय में सबसे ज्यादा हिम्मत देने वाले और आत्मविश्वास बढाने में मजरूह सुल्तानपुरी का नाम लेती हैं। लता जी का कहना है मजरूह साहब हर शाम घर आकर बगल में बैठकर मेरा दिल बहलाने के लिए कविताएं सुनाया करते थे। वे दिन-रात व्यस्त रहते थे और उन्हें मुश्किल से सोने के लिए कुछ वक्त मिलता था।

टाइगर ने मां आयशा, बहन कृष्णा के साथ शेयर की शानदार फैमिली फोटो, तो दिशा ने किया यह कमेंट

अजय देवगन की हिरोइन मालदीव्स से हाॅट पोज देकर फैंस की बढ़ाई धड़कने, लिखी यह बात

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें: Facebook | WhatsApp | Instagram | Twitter | Telegram | Google News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *