पैसे के दम पर बाप-बेटे बनाते थे गांव की औरतों-लड़कियों से सम्बन्ध, अपनी मां- बहन के साथ अवैध संबंध बनाते देख 3 दोस्तों ने कर डाला बड़ा कांड...

पैसे के दम पर बाप-बेटे बनाते थे गांव की औरतों-लड़कियों से सम्बन्ध, अपनी मां- बहन के साथ अवैध संबंध बनाते देख 3 दोस्तों ने कर डाला बड़ा कांड…

क्राइम

पैसे के दम पर बाप-बेटे बनाते थे गांव की औरतों-लड़कियों से सम्बन्ध, अपनी मां- बहन के साथ अवैध संबंध बनाते देख 3 दोस्तों ने कर डाला बड़ा कांड…

कहते है पैसो में इतना दम होता है कि वो आदमी को मदहोश बना देता है ऐसे ही एक मामला बिहार के कैमूर से आया है जिसमे पैसो के दम पर बाप-बेटे पूरी गांव की औरतों-लड़कियों से सम्बन्ध बनाते थे बताया जा रहा है कि पिता-पुत्र के कुकर्मों से गांव के लोग परेशान थे पर अपनी इज्जत बचाने और गरीबी के कारण इनसे मुकाबला करने में डरते थे. मामला बेलाव थाना के तराव गांव का है.बता दें कि 30 मई दोनों पिता-पुत्र की हत्या तब कर दी गई थी जब वे अ सब्जी की निगरानी के लिए अपने खेत में सोये हुए थे. उसी दौरान गांव के तीन युवकों ने दोनों को ही कुल्हाड़ी से काट डाला जिससे दोनों की मौत हो गई थी.

रेलवे ने दी बड़ी सौगात: सिर्फ एक Call में हो जाएगा आपका टिकट Cancel

इसलिए की हत्या 

आरोपी ने बताया की ये दोनों बाप-बेटे से पूरा गांव परेशान था इसने मेरी बड़ी मम्मी से अवैध सम्बन्ध बनाया जब गांव के लोगों को पता चला तो लोक लाज के कारण मां ने जान दे दी. उनकी बेटी के ससुराल वालों को जब पता चला तो अक्सर ताने मारने लगे जिसको लेकर बेटी ने भी जान दे दी. मेरी मां, बहन, पत्नी के साथ भी अवैध संबंध बनाया.

COVID-19 / बिगड़ चुके हैं इस राज्य के हालात, CM ने कहा- शुरू हो चुका है Community Transmission

सोते हुए ही दोनों को काट डाला
आरोपी ने बताया कि घर वाले झगड़े से दूर रहने की बात करते रहे. हम भी मजबूर थे क्योंकि वंशी सिंह पैसे वाले थे. तभी जितेंद्र बिंद ने अपने बहन के साथ छेडखानी करते देख लिया था. फिर क्या था जितेंद्र ने अपने दोस्त पिंटू से सारी बात बताई कि हम दोनों की मां- बहन के साथ अवैध संबंध बनाया है. कब तक बर्दाश्त किया जाएगा. दोनों ने कामेश्वर बिंद को सारी बात बताई और तीनों ने कुल्हाड़ी से दोनों को काट डाला.

ख़बरों की अपडेट्स पाने के लिए हमसे सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर भी जुड़ें:  FacebookTwitterWhatsAppTelegramGoogle NewsInstagram

Facebook Comments