सेक्स रैकेट का खुलासा, पति ख़ुद लाता था पत्नी के लिए कस्टमर्स, कमरे में मिली आपत्तिजनक चीजे…

क्राइम

इटावा। उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में सेक्स रैकेट पकड़े जाने के पश्चात एक बड़ा खुलासा यह हुआ है कि सफेदपोश एवं नौकरशाह भी इस धंधे से जुड़े हुए समक्ष आए है जिनको लेकर पुलिस की भिन्न से गहनता से पड़ताल की जा रही है।

इटावा के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा के मुताबिक, बीते सोमवार शाम को छापेमारी के दौरान सभी  स्थानों पर पकड़े गए सेक्स रैकेट से जुडे हुए लोगों ने बयानों में अनेक राजनेताओं और अधिकारियों की संलिप्ता की भी भूमिका परिलक्षित होती हुई नजर आ रही है। 

पूछताछ में समक्ष आया कि सेक्स रैकेट के 300 से 10 हजार रुपये तक भिन्न-भिन्न दाम होते थे। इसमें व्हाट्सअप पर चेहरा दिखाई 300 रुपये, चेहरा पंसद आने पर बुकिंग 500 रुपये, गंदा कार्य हेतु 1500 से 2500 रुपये एवं तय स्थान पर भेजने के 5 हजार से 10 हजार रुपये तक लिए जाते थे। कुछ युवतियों ने पूछताछ के दौरान पुलिस के समक्ष अनेक सफेदपोश एवं नौकरशाही से जुड़े लोगों से संबंधों को प्रकाशित किया। 

छापेमारी में विकास कालोनी में पकड़ी गई युवती से पूछताछ में समक्ष आया कि इस गंदे कार्य हेतु पति ही पत्नी के लिए ग्राहक लाता था। पुलिस टीम के जरिए पकड़े गए सेक्स रैकट न सिर्फ इंटरनेट पर भी सक्रिय थे बल्कि मुंह दिखाई से ही वसूली का सिलसिला प्रारम्भ हो जाता था। 

पूछताछ में गिरोह के सदस्य ने अनैतिक काम से जुड़ी हुई वेबसाइट के सम्बन्ध में भी बताया है। इसके संग ही मौके से उत्तेजना उत्पन्न करने वाली दवाओं सहित अनेक आपत्तिजनक चीजें भी प्राप्त हुई। 

बता दें कि इटावा शहर में सालों से अनेक जगह सेक्स रैकेट संचालित हो रहे थे। इनमें सिविल लाइन के राहतपुरा, कांशीराम कालोनी टीबी हास्पिटल, भरथना रोड, विकास कालोनी इत्यादि जगह सम्मिलित है। पुलिस ने इन्हीं स्थानों पर छापा मारकर देह व्यापार में सम्मिलित लोगों को गिरफ्तार किया।

इनमें कांशीराम कालोनी में कुछ ऐसे फ्लेट प्राप्त हुए, जो आवंटी ने किसी अन्य शख्स को किराए पर अनैतिक कामों हेतु दिए थे। फ्रेंड्स कॉलोनी, सिविल लाइन, सदर कोतवाली एवं इकदिल क्षेत्र में दबिश दी गई। पुलिस पकड़ी गई युवतियों एवं महिलाओं से पूछताछ कर रही है।

Facebook Comments