रीवा: जानलेवा हमला में घायल होटल संचालक की मौत, परिजनों का हंगामा1 min read

Crime Rewa

रीवा. जानलेवा हमले के शिकार होटल संचालक ने शनिवार को उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। वारदात के बाद से आरोपी फरार हैं। पुलिस कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े करते हुए संजय गांधी अस्पताल में हंगामा किया। कार्यवाही में लेटलतीफी करने वाले पुलिसककर्मी को हटाने की मांग की और डॉटरों की टीम बनाकर पीएम कराने की आवाज बुलंद की। घटनाक्रम की गंभीरता को देखते हुए तत्काल डॉटरों की पांच सदस्यीय टीम बनाकर पीएम कराया। पीएम की वीडियोग्राफी भी कराई गई है।

जानकारी के मुताबिक 22 नवंबर की रात करीब 11 बजे महाकाल होटल संचालक संजीव सिंह उर्फ संजू के साथ करीब आधा दर्जन की संया में आये सरहंगों द्वारा मारपीट की गई। उसे उपचार के लिए एसजीएमएच में भर्ती कराया गया था, जहां शनिवार सुबह करीब 11 बजे उसकी मौत हो गयी।

बताया गया कि संजू ने आरोपियों को होटल में शराब पीने से मना किया था। इसी बात को लेकर दोनो पक्षों में कहासुनी हो गयी और आधा दर्जन की संया में आए सरहंगों ने संजू पर जानलेवा हमला कर दिया। बताया गया है कि घटना से ठीक आधा घंटे पहले पुलिस अधिकारियों ने लैग मार्च किया था, लेकिन पुलिस प्रशासन की मुस्तैदी की पोल खुलने में ज्यादा वक्त नहीं लगा। चार नामजद आरोपी जिन सरहंगों ने होटल संचालक के साथ मारपीट की थी जिनके खिलाफ सिविल लाइन थाने में घटना के दूसरे दिन एफआईआर दर्ज कराई गई थी। जिनकी धरपकड़ का पुलिस ने प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिल पाई।

रिपोर्ट लिखते नहीं बनता, जमे हैं थाने में
परिजनों का आरोप है कि शहर का महत्वपूर्ण सिविल लाइन थाना, जहां जिले के तमाम अधिकारी कलेटर, कमिश्रर, पुलिस कमिश्रर, जज आदि के बंगले हैं, वहां ऐसे गैर जिमेदार पुलिस कर्मचारी पदस्थ हैं, जिनसे रिपोर्ट तक लिखना नहीं आता। बताया गया है कि थाने में आरबी सिंह उपनिरीक्षक के पद पर पदस्थ हैं, जिसके पास पीडि़त पक्ष रिपोर्ट लिखाने गए थे। उन्हें या पता कि ऐसे महत्वपूर्ण थाने में जो तमाम वीवीआईपी लोगों के बीच स्थित है, वहां ऐसे अनपढ़ और गैर जिमेदार लोग पदस्थ हैं जो रिपोर्ट ही नहीं लिख सकते।

Facebook Comments