पिछली नवरात्रि में छोटे भाई ने फांसी लगाई, इस बार बड़े भाई ने दी जान1 min read

Crime Madhya Pradesh

भोपाल. बघेलखंड विंध्य आदर्श समाज के उपाध्यक्ष के भतीजे ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। फांसी लगाने के कारणों का खुलासा तो नहीं हो पाया, लेकिन आज से एक साल पहले उनके छोटे भाई ने भी खुदकुशी कर ली थी। पोस्टमार्टम के बाद परिजन शव लेकर रीवा के लिए निकल गए।

सिमरिया रीवा निवासी 22 वर्षीय पिंटू उर्फ स्वप्निल अग्निहोत्री पिता पुरुषोत्तम अग्निहोत्री बड़े भाई राेहणी के साथ चाचा टीपी अग्निहोत्री के मकान में रहते थे। उनके चाचा बघेलखंड विंध्य आदर्श समाज के उपाध्यक्ष हैं। पिंटू प्राइवेट जॉब करता था। समाज के अध्यक्ष उमाशंकर तिवारी ने बताया कि गुरुवार रात पिंटू रात 11 बजे तक झांकी में बैठा रहा। इसके बाद वह अपने कमरे में सोने चला गया। सुबह नहीं उठने पर बड़े भाई रोहणी ने धक्का देकर दरवाजा खोला, तो उसे फांसी पर पाया। वे उसे जेपी अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों ने पुलिस को घटना की सूचना दी।

पोस्टमार्टम के बाद भाई उसका शव लेकर रीवा निकल गए। तिवारी ने बताया कि छह भाइयों में पिंटू पांचवें नंबर का था। एक साल पहले इसी नवरात्रि में उसके छोटे भाई शशिकांत ने भी खुदकुशी कर ली थी। सबसे बड़े भाई गांव पर रहते हैं। पुलिस ने मौके से एक मोबाइल फोन जब्त किया है, लेकिन कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। निजामुद्दीन कॉलोनी में रहने वाले मृतक से बड़े भाई अश्विन ने बताया कि उन्हें तो समझ ही नहीं आ रहा कि पिंटू ने ऐसे कैसे कर लिया?

Facebook Comments