पेट्रोल व डीजल हुआ महंगा, लोगो में आक्रोश | REWA NEWS


रीवा। उन्नीस दिन के अंतराल के बाद अचानक पेट्रोल और डीजल के दाम में फिर बढ़ोत्तरी का सिलसिला चालू हो गया है।  जानकारी के अनुसार कुछ ही दिनों में यह और महंगा होगा। बता दें कि मंगलवार को पेट्रोल की कीमत 82 रूपये 6 पैसे तक पहुंच गई है। माना यह जा रहा है कि कर्नाटक चुनाव के मद्देनजर इस अवधि में पेट्रोल की कीमत 81.66 रुपए स्थिर कर दिया था। जिसके कारण कम्पनियों पर कर्ज बढ़ता गया। 

जिसकी वजह से एक साथ ही कीमत में एक रूपये से अधिक की बढ़ोत्तरी हो गई। डीजल का रेट उछाल मारकर 71.25 रूपये प्रति लीटर हो गया है। वहीं पावर पेट्रोल की कीमत आसमान को छूने लगी है। वर्तमान में स्पीड पेट्रोल 85.4 रूपये हो गया है।  रोजाना बढ़ती कीमत ने आम आदमी का बजट बिगड़ दिया है। बताया जा रहा है कि डीजल और पेट्रोल के दामों में वृद्धि जारी रहेगी। गौरतलब है कि जनवरी में पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमत को लेकर प्रदेश सरकार ने वैट में कटौती की थी।  जिसके बाद डीजल एवं पेट्रोल के दाम अंतर्राष्टÑीय बाजार में घटे तो सरकार ने अपना खजाना भरने के लिए 50 पैसे सेंस लगा दिया। वहीं केन्द्र सरकार ने भी बजट में आयात शुल्क पर कटौती कर ईधन में सेंस टैक्स लगा दिया। 

मध्यमवर्गीय उपभोक्ताओं में आक्रोश
अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। वर्तमान में सामान्य पेट्रोल की कीमत बढ़कर 82.6 रुपए पहुंच गई है और पॉवर पेट्रोल की कीमत 85.4 रुपए हो गई है। अब तक चार सालों में पेट्रोल सबसे महंगा माना जा रहा है। वहीं डीजल 71.25 तक पहुंच गया है। ऐसे में ट्रकों, बसों एवं भारी वाहनों में इस्तेमाल होने वाले डीजल के दाम बढ़ जाने से किराया, भाड़ा में इजाफा होने की संभावना बढ़ जाती है। पिछले पांच महीनों से पेट्रोल व डीजल का दाम प्रतिदिन पांच -दस पैसे बढ़ता गया। जबकि सरकार ने ईधन की कीमत को क्रूड आॅयल के दाम के हिसाब से तय करने के बाद यह कहा था कि इससे पेट्रोल और डीजल के दामों में कमी आएगी है। ऐसे में प्रतिदिन बढ़ते रेट से आमजन में काफी आक्रोश व्याप्त है। 

कैसे 32.37 से 82 रुपए का हो जाता है पेट्रोल
जब भी पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छूते हैं तो मन में यह सवाल आता है कि आखिर कच्चे तेल से पेट्रोल डीजल के सफर में कीमतों इतनी ज्यादा कैसी बढ़ जाती है। दरअसल केन्द्र सरकार व राज्य सरकार वैट व प्रदूषण सेंस के नाम पर उपभोक्ताओं से मोटी रकम वसूलते हैं। इस तरह ईधन के दाम लागत से तिगुने हो जाते हैं।

वर्तमान क्रूड आॅयल 4824 रुपए पैसे बैरल है। एक बैरल में 149 लीटर कच्चा तेल होता है। जिससे यह अनुमान लगाया जा सकता है कि एक लीटर कच्चे तेल कीमत 32.37 रुपए है। जिसके बाद आवक टैक्स रिफाइनल प्रोसेसिंग में पेट्रोल पर 4.75 और डीजल 7.5 प्रति लीटर टैक्स लगाया जाता है। तत्पश्चात ओएम मार्जिन और ट्रांसपोर्टटेंशन चार्ज में पेट्रोल पर 3.31 और डीजल में 2.87 टैक्स लगाया जाता है। इसके बाद केन्द्र सरकार द्वारा एक्साइज ड्यूटी और रोड सेंस के नाम पर पेट्रोल में 19.48 और डीजल 15.33 टैक्स लगाया जाता है। पेट्रोल डीलर पेट्रोल में 3.59 और डीजल 2.51 लीटर प्रति कमीशन लेते हैं। जिसके बाद राज्य सरकार 28 प्रतिशत पेट्रोल में 22 प्रतिशत डीजल में एर्डिशनल वैट और प्रलूशन सेंस के नाम पर लेती है। 

फैक्ट फाइल
माह             पेट्रोल         डीजल
दिसम्बर       76.29         63.66
जनवरी         76.30        63.82
30 जनवरी     80.13        68.96
फरवरी          80.27        69.08
मार्च             80.33        68.92
1 अप्रैल        80.83         69.30
30 अप्रैल      81.66         70.72
कीमत अब     82.6          71.25
स्पीड पेट्रोल की कीमत 85.4    

No comments

Powered by Blogger.