बड़ी खबर : सरेंडर के पहले ही हत्या के आरोपी को एडि.एसपी ने CJM कोर्ट के सामने से दबोचा | REWA NEWS




रीवा| 27 मार्च को टीआरएस कॉलेज रीवा में हुए गोलीकांड के मुख्य आरोपी वैभव सिंह जैसे ही रीवा जिला न्यायलय के CJM कोर्ट में आत्मसमर्पण के लिए पहुंचा तभी मुखबिर की सूचना पर पहुचे एडि.एसपी ने गिरफ्तार कर लिया. इस दौरान CJM के कक्ष के सामने से हुई गिरफ्तारी को लेकर वकील और पुलिस अब आमने सामने हो गई है, तो वहीँ पुलिस इस गिरफ्तारी को अपनी वाहवाही बता रही है. 

बता दें मंगलवार 27 मार्च को नितिन सिंह गहरवार जो टीआरएस महाविद्यालय, रीवा में बीएससी फाइनल इयर का छात्र था, की वैभव ठाकुर द्वारा महाविद्यालय के अन्दर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जिसमे वैभव के साथ एक अन्य आरोपी मयंक सिंह उर्फ़ संग्राम को महाविद्यालय के छात्रों द्वारा पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया गया, परन्तु वैभव ठाकुर वहां से फरार हो पाने में सफल हो गया था. वारदात का पूरा दृश्य महाविद्यालय के CCTV में कैद हो गया है.

घटना के बाद से लगातार आरोपी वैभव सिंह फेसबुक, और INSTAGRAM में लाइव हो रहा था, बावजूद इसके घटना के 10 दिनों तक पुलिस उसे पकड़ नहीं पाई, आख़िरकार आज 7 अप्रैल को आरोपी ने न्यायालय के समक्ष सरेंडर करने CJM कोर्ट पहुँच गया था तब पुलिस ने उसे कक्ष के द्वार के सामने से गिरफ्तार कर लिया है. आरोपी पर 10 हजार का इनाम भी रखा गया था. 

गिरफ्तारी को लेकर कई तरह की चर्चाएँ 
टीआरएस कॉलेज के गोलीकांड के आरोपी छात्र वैभव ठाकुर की गिरफ्तारी को लेकर यह अफवाह उड़ाई गई की उसे कोर्ट से नहीं बल्कि उसे कहीं दूसरी जगह से गिरफ्तार किया गया है, जब मामले के तह पर गए तो पूरा मामला इस कदर सामने आया. 
  1. शनिवार की सुबह जिला न्यायलय के एक अधिवक्ता के माध्यम से हत्या के आरोपी वैभव ठाकुर कोर्ट में आत्मसमर्पण करने 10:40 पर पंहुचा.
  2. आत्मसमर्पण के अभिलेख तैयार करने के उपरान्त 11 बजे अधिवक्ता के साथ आरोपी CJM के कक्ष के द्वार के पास पंहुचा.
  3. तब न्यायाधीश वहां मौजूद नहीं थे
  4. इतने में ही एडि.एसपी अपने दल बल के साथ CJM चेंबर के गेट के सामने पहुचे
  5. आरोपी के अधिवक्ता और एडि.एसपी के बीच 10 मिनट तक गिरफ्तारी को लेकर नोक झोक होती रही.
  6. अंततः पुलिस ने अपना दबाव बनाते हुए आरोपी को सरेंडर होने के पूर्व ही गिरफ्तार कर लिया.  

जाने पूरा घटनाक्रम


संभाग के सबसे बड़े ठाकुर रणमत सिंह स्वशासी महाविद्यालय मे 27 मार्च को दोपहर लगभग 2 बजे वैभव ठाकुर ने पुरानी रंजिश के चलते छात्र नितिन सिंह पर सरेआम गोली दाग दी गोली लगते ही छात्र नितिन सिंह की मौत हो गई । घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पहुची तब तक हत्या के आरोपी वैभव ठाकुर व उसका साथी संग्राम सिंह मौका देख फरार हो गए । बाद मे पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए एक आरोपी संग्राम सिंह को दबोच लिया । जबकि हत्या का मुख्य आरोपी वैभव सिंह भागने मे कामयाब रहा।

No comments

Powered by Blogger.