बड़ी खबर: सिंगरौली में आया भूकंप कर रहा है, इस बड़ी तबाही की ओर इशारा, जरूर पढिये | MP NEWS


सिंगरौली। जिले के कुछ हिस्सों में मंगलवार की रात भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप के झटके लगते ही लोग घरों से बाहर निकल आए। दीवारों पर दरारें आ गईं। चारों ओर अफरा-तफरी का माहौल निर्मित हो गया। किसी के समझ में नहीं आ रहा था कि ब्लॉस्टिंग है या फिर भूकंप। झटके से एक युवती के बेहोश होने की भी खबर आई है।
बताया गया, रात करीब 7.46 बजे 4.6 तीव्रता से आए भूकंप के झटके सिंगरौली, बैढऩ के साथ गनियारी, मोरवा, विन्ध्यनगर, जयंत, बरगवां सहित कई जगहों पर महसूस किए गए। यूपी की सीमा तक प्रभावित होने की खबर आ रही है। इससे कुछ मकानों और अस्पताल की दीवारों पर दरारें आने से रहवासी और मरीज दहशत में आ आए। वैज्ञानिक इस बात का पता लगाने में जुटे हैं कि भूकंप का केंद्र क्या था। कुछ लोग इसे भूगर्भीय हलचल बता रहे हैं।


सोनभद्र में भी हुआ महसूस
जोरदार ब्लास्टिंग के साथ आए भूकंप से लोग सहम गए। जो जिस हाल में था, घरों से बाहर निकल सड़क पर आ गया। सिंगरौली जिला सहित पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। भूकम्प से तीन मंजिला मकान तक हिलने लगा और घरों का सामान इधर-उधर गिरने लगा। लोग किसी तरह से अपने आप को संभाल घरों से बाहर निकल सड़क पर पहुंचे।
बड़े बांध जिम्मेदार
डॉ.संदीप शुक्ला के अनुसार सोन-नर्मदा वैली जोन -3 में होने से पहले से ही संवेदनशील है साथ ही यहां बने बड़े बांध भी भूकंप की संभावनाओं को बढ़ाते हैं। सिंगरौली के संबंध में कहा कि यहां लगातार हो रही बड़े विस्फोट और बाणसागर जैसे बांध के कारण भूकंप संवेदनशीलता लगातार बढ़ रही है।


जोन-4 की स्थिति बन रही
डॉ. संदीप शुक्ला ने बताया कि भूकंप संवेदशील सोन-नर्मदा वैली के अपने शोध पर उन्होंने बताया कि यह जोन अब संवेदनशीलता के मामले में जोन-4 की स्थिति में पहुंच चुका है। इसकी वजह है सोन नर्मदा लीनियामेंट का होना। यहां की भौगोलिक संरचना के कारण लीनियामेंट जोन बनता है जो फाल्ट जोन बनाता है। जिससे यहां एनर्जी काफी रिलीज होती है। जिस वजह से भी भूकंप आते हैं। इस वजह से नर्मदा सोन फाल्ट में भूकंप संवेदनशीलता और अधिक हो चुकी है और सिंगरौली इसी क्षेत्र में आता है।
टीवी देखते हो गई बेहोश
भूकम्प के झटके से सलमा खातून पिता मुस्तकीम उम्र 17 निवासी गनियारी बलियारी बेहोश हो गई। वह घर मे टीवी देख रही थी, तभी अचानक बिल्डिंग के कंपन से बेहोश हो गई। उसे परिजन जिला अस्पताल ले गए। जहां कोई डॉक्टर न मिलने कारण एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया है।

लोगों की प्रतिक्रियाएं
भूकंप के बाद घरों से बाहर सड़क पर एकत्रित लोग भूकंप के 1 घण्टे बाद अपने आप को संभाल घरों के अंदर गए, लेकिन सभी अभी भी डरे सहमे हुये हैं। जानकारों की माने तो सिंगरौली में इतनी तीव्रता का भूकंप अब से पहले लोगों ने कब महसूस किया हो ये क्षेत्रीय जनों को याद नहीं है।<

No comments

Powered by Blogger.