मैच के दौरान इस वजह से CSK के खिलाड़ी डुप्लेसी पर फेंका जूता, अब नहीं होगे CHENNAI में IPL मैच || CRICKET NEWS


चेन्नई। तमिलनाडू में कावेरी जल विवाद को लेकर जारी विरोध प्रदर्शन की आंच अब इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2018) पर भी पड़ रही है। मंगलवार को चेपॉक के मैदान पर हुई शर्मनाक घटना और तमिलनाडू में तनाव के माहौल के देखते हुए BCCI ने IPL 2018 शेड्यूल में कुछ बदलाव किया है। BCCI ने चेन्नई में होने वाले इस सीजन के बाकी 6 मैचों को दूसरी जगह शिफ्ट करने का फैसला किया है। बता दें कि इस आईपीएल सीजन में एम.ए. चिदंबरम स्टेडियम में कुल 7 मैच होने थे, जिनमें से अभी सिर्फ 1 ही मैच हुआ है।

जानकारी के अनुसार चेन्नई पुलिस ने पहले ही आईपीएल को सुरक्षा मुहैया कराने से इंकार कर दिया था। कारण है कि तमिलनाडु में कावेरी प्रबंधन बोर्ड के गठन को लेकर राजनीतिक दलों का पिछले कुछ महीनों से कड़ा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। अब चेपाक में हुई इस घटना के बाद IPL कमिश्नर राजीव शुक्ला ने सुरक्षा बढ़ाने को लेकर केंद्रीय गृह सचिव से भी बात की, लेकिन बात नहीं बन सकी है। इसको ध्यान में रखते हुए ही BCCI ने चेन्नई के मैचों का वेन्यू बदलने का फैसला लिया।

दर्शकों ने स्टेडियम में फेंके जूते
मंगलवार को एम.ए. चिदंबरम स्टेडियम पर 2 साल बाद आईपीएल का कोई मैच खेला गया था। इस मैच में घरेलू टीम चेन्नई सुपर किंग्स और शाहरुख खान की कोलकाता नाइट राइडर्स आमने-सामने थी। मैच में कोलकाता की टीम खेल रही थी और पारी का 8वां ओवर चल रहा था। इसी दौरान दर्शकों के बीच से ही जमकर विरोध प्रदर्शन किया गया। मैच के दौरान ही कुछ युवा प्रदर्शनकारी स्टेडियम के अंदर घुस गए और एक जोड़ी जूते भी फेंके। यह जूते पट्टाबिरामन गेट की ओर से फेंके गए थे।

फॉफ डु प्लेसी को लगा जूता
मैच के दौरान कुछ दर्शकों ने भी एक-दो जूते खिलाड़ियों को निशाना बनाते हुए फेंके। इनमें से एक जूता साउथ अफ्रीकी कप्तान फॉफ डु प्लेसी को जाकर लगा। जूता लगने के बाद नाराज डु प्लेसी ने जूता उठाकर वापस भी फेंका। इस घटना के बाद हरकत में आए सुरक्षाकर्मी तुरंत वहां पहुंच गए। तुरंत सुरक्षा के कड़े इंतेजाम किए गए और पुलिस ने दर्शकों में से 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया। बता दें कि डु प्लेसी इस मैच में नहीं खेल रहे थे।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक टीवीके कार्यकर्ताओं ने मैच के विरोध में चेन्नई सुपर किंग्स की पीली जर्सी और आईपीएल के टिकट को भी जलाया था। कई लोगों ने केंद्र और राज्य सरकार के विरोध में नारेबाजी की। बता दें कि सुरक्षा के मद्देनजर स्टेडियम के बाहर 4 हजार पुलिसकर्मी तैनात किए गए थे।

No comments

Powered by Blogger.