मध्यप्रदेश में BJP के 8,000 जमीनी नेताओं ने की पार्टी छोड़ने की घोषणा, जानिए क्या है कारण || MP NEWS



भोपाल। देश की सबसे बड़ी पार्टी से अब दिग्गज नेताओं का मोहभंग होने लगा है। इसी सिलसिले में इस्तीफे की जैसे झड़ी लग गई है। मध्यप्रदेश में दिग्गजों के बाद अब एक साथ 8 हजार जमीनी कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ने का ऐलान करके सभी को हैरान कर दिया है। इन्होंने नर्मदा नदी में अवैध उत्खनन का आरोप लगाते हुए यह कदम उठाया है।

हाल ही में भाजपा के दिग्गज नेता पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह ने भाजपा से संन्यास लेने की घोषणा की थी, अब एक और दिग्गज नेता ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है। मध्यप्रदेश में भाजपा के दिग्गज नेता ने ऐसे समय में इस्तीफा दिया है, जिससे आने वाले चुनाव में असर पड़ सकता है। यह नेता शहडोल जिला पंचायत में अध्यक्ष पद पर थे। नरेंद्र मरावी नामक यह दिग्गज नेता क्षेत्र में काफी प्रभाव रखते हैं।

कांग्रेस में जाने का सिलसिला
शहडोल जिला पंचायत अध्यक्ष नरेंद्र मरावी ने सोमवार को भाजपा छोडऩे का ऐलान कर दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा संगठन को भेज दिया है। मरावी ने कहा कि मैं अपने जिले में जनता का काम ही नहीं करा पा रहा हूं तो एेसी पार्टी में रहकर क्या करूंगा। एक महीने के भीतर कांग्रेस की सदस्यता ले लूंगा। उधर, होशंगाबाद जिले के भाजपा झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के जिला संयोजक विजय चौकसे ने भी सामूहिक इस्तीफे की धमकी दी है। इसके पहले रीवा जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा भाजपा छोड़कर कांगे्रस की सदस्यता ले चुके हैं।

उपेक्षा से नाराज हैं भाजपा के नेता
नरेंद्र मरावी पिछले कई दिनों से भाजपा में अपनी उपेक्षा से नाराज चल रहे थे। मरावी ने 'पत्रिका' से चर्चा में कहा कि भाजपा सरकार में पंचायती राज व्यवस्था की हत्या कर दी है। अपनी मांगों को लेकर कई बार आंदोलन कर चुका हूं।

सामूहिक इस्तीफे की तैयारी
होशंगाबाद जिले के भाजपा झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ के जिला संयोजक विजय चौकसे ने नर्मदा से अवैध उत्खनन का आरोप लगाते हुए 8000 जमीनी कार्यकर्ताओं ने सामूहिक इस्तीफे की चेतावनी दी है। चौकसे ने प्रदेश संगठन को लिखे पत्र में कहा कि 10 दिन के भीतर जिला खनिज अधिकारी शशांक शुक्ला को नहीं हटाया और अवैध उत्खनन नहीं रोका गया तो सामूहिक इस्तीफा दे देंगे।

विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में इस्तीफों की झड़ी
पिछले दो महीनों में भाजपा छोडऩे का सिलसिला जारी है। रीवा जिला पंचायत अध्यक्ष अभय मिश्रा भी पार्टी छोड़ चुके हैं। मार्च में रीवा के भाजपा नेता और पूर्व जनपद अध्यक्ष प्रणवीर सिंह ने भी पार्टी से इस्तीफा दिया है। फरवरी में रीवा जिले की ही त्योंथर जनपद अध्यक्ष गीता मांझी भी पार्टी छोडऩे का ऐलान कर चुकी हैं। नगरीय निकाय चुनाव के दौरान धार जिले की भाजपा नेता रेलम चौहान ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था, जिन्हें पार्टी ने वापस बुला लिया।

No comments

Powered by Blogger.