इस गाँव में छुपा था नितिन का हत्यारा, पुलिस के पहुचने के पहले ही हो गया रफूचक्कर || TRS COLLEGE MURDER CASE


रीवा | टीआरएस कॉलेज के नितिन हत्याकाण्ड का मुख्य आरोपी वैभव सिंह ठाकुर पैकन गांव से पुलिस टीम को चकमा देने में सफल हो गया। हालांकि एसपी ने उसकी गिरफ्तारी पर 10 हजार का इनाम रख दिया लेकिन पुलिस के पैकन गांव पहुंचने की सूचना आरोपी तक पहुंचने  से कई सवाल खड़े हो गए हैं। इधर आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर बुलाए गए शहर बंद का मिला-जुला असर रहा।

इस दौरान समदड़िया मल्टीप्लैक्स, ब्लू मून रेस्टोरेंट एवं मनकामना स्टोर सहित कई स्थानों पर प्रदर्शनकारी युवकों ने तोड़फोड़ भी की। जिसके कारण कहीं-कहीं तनाव की स्थिति रही। इस हत्याकाण्ड के मुख्य आरोपी से शहर के एक थाना प्रभारी के रिश्ते को लेकर भी चर्चाओं का बाजार गर्म है।

गौरतलब है कि 26 मार्च को आपसी विवाद में वैभव सिंह ठाकुर नामक युवक ने टीआरएस कॉलेज के छात्र नितिन सिंह गहरवार को गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया था। हत्या को अंजाम देने के बाद आरोपी पिस्टल समेत मौके से फरार हो गया। जबकि वहां मौजूद छात्रों ने उसके साथ रहे संग्राम सिंह नामक युवक को पकड़कर पीटा और बाद में पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस पहुंचने के पहले मिल गई सूचना
दिनदहाड़े छात्र की हत्या कर रीवा से भागा वैभव सिंह ने गढ़ थाना क्षेत्र के पैकन गांव में पनाह ली थी। 28 मार्च को उसने अपना फेसबुक एकाउंट गढ़ से अपडेट किया था जिसके आधार पर पुलिस ने लोकेशन ट्रेस की थी। लेकिन हैरानी की बात यह है कि करीब 40 घण्टे पैकन गांव में छिपे वैभव को पुलिस मूवमेंट की भनक लग गई और टीम पहुंचने के पहले वह पैकन से अलसुबह 4 बजे 29 मार्च को रफू चक्कर हो गया। पुलिस खाली हाथ वापस आ गई।

उप निरीक्षक से हैं वैभव के करीबी रिश्ते
पुलिस टीम के पैकन गांव से खाली हाथ लौटने के बाद गुरुवार को वैभव और जिला पुलिस के एक उप निरीक्षक के रिश्ते की बातें सामने आने लगी हैं। बताया जाता है कि मुख्य आरोपी वैभव सिंह की गिरफ्तारी के लिए बनाई गई तीन टीम में से एक टीम का नेतृत्व उक्त उपनिरीक्षक को सौंपा गया है, जिसका नाम वैभव के साथ सामने आया है। बताया जाता है कि उप निरीक्षक पुलिस में चयनित होने के पहले वे निराला नगर में ही रहकर पढ़ाई किया करते थे। जहां उनका वैभव और उस जैसे अराजक तत्वों से गहरा नाता रहा है। खास बात यह है कि उप निरीक्षक इन दिनों उसी क्षेत्र के थाने में पदस्थ हैं, जिस क्षेत्र में वैभव का भी मकान है। चर्चा है कि टीम के पैकन गांव जाने की सूचना कुछ इसी तरीके से लीक की गई है जिसकी वजह से गिरफ्तारी नहीं हो सकी।

बंद के दौरान हुई तोड़फोड़
गुरुवार को एनएसयूआई के आह्वान पर बुलाए गए शहर बंद में कई स्थानों पर तोड़फोड़ हुई है। जिनमें सरदार पटेल अंतर्राज्यीय बस स्टैण्ड स्थित समदड़िया मल्टीप्लैक्स, चक्रधर सिटी में संचालित होटल ब्लू मून, भारत प्लास्टिक के बगल में मनकामना स्टोर, प्रवीण मेडिकल्स आदि में उत्पात किया गया। मल्टीप्लेक्स का स्क्रीन बुरी तरह से क्षतिग्रस्त कर दिया गया जिसके चलते दिन भर के शो रद्द रहे। हालांकि बाद में पुलिस ने मोर्चा संभाल लिया। शहर बंद का नेतृत्व यूथ कांग्रेस के जिला अध्यक्ष दिवाकर द्विवेदी और एनएसयूआई के पदाधिकारियों ने किया। 

पैकन गांव में छिपे होने की सूचना मिली थी लेकिन टीम पहुंचने के पहले वैभव भाग चुका था। पुलिस कई जगह दबिश दे रही है। अब आरोपी ज्यादा दिन तक गिरफ्त से बाहर नहीं रह सकता।
ललित शाक्यवार, एसपी रीवा

No comments

Powered by Blogger.