होली की हुडदंगई के बाद रीवा की सड़कों और बाज़ार में पसरा सन्नाटा, जानिए क्या है वजह || REWA NEWS

रीवा. होली की हुड़दंग के बाद सडक़ों पर सन्नाटा पसर गया। बाजारों की स्थिति भी कुछ ऐसी ही रही। दुकानें बंद रही। आटो व रिक्शा से लेकर बड़े वाहन तक सभी बंद रहे। कुछ ऐसा ही हाल होली के दूसरे दिन शनिवार को भी नजर आया।

पहली बार देखने को मिली यह स्थिति
शुक्रवार को होली हुड़दंग सुबह से ही शुरू हो गई। लेकिन दोपहर ढाई बजे के बाद न ही कहीं होली की टोली नजर आई और न ही हुड़दंग। खासतौर पर मुख्य मार्गों पर सन्नाटा पसरा रहा। होली पर सन्नाटे का यह नजारा पहली बार देखा गया। बीते वर्षों में सडक़ों पर पूरे दिन चहल-पहल बनी रहती थी।  Click here to download Rewa Riyasat's Android App
पढ़ें : रीवा वासियों को रीवा-झांसी ट्रेन की सौगात, यहाँ जाने समय चक्र ...


बदल रहे ट्रेंड का नतीजा
होली की कुछ घंटे की हुड़दंग के बाद सडक़ों पर सन्नाटा बदल रहे ट्रेंड का नतीजा माना जा रहा है। अब लोग सडक़ पर घंटों हुड़दंग मचाने के बजाए कुछ देर की मस्ती के बाद घर और परिवार के साथ समय बिताना ज्यादा बेहतर समझते हैं। दोपहर ढाई बजे के बाद गली मुहल्लों में सिमटी होली की हुड़दंग इसी बदलती सोच का नतीजा माना जा रहा है।

शाम को फिर बढ़ी चहल पहल
दोपहर ढाई बजे से पसरा सन्नाटा शाम के पांच बजे के बाद टूटा। शाम को लोग फ्रेश होकर घरों से एक दूसरे को बधाई देने निकले तो सडक़ों पर चहल-पहल बढ़ी। लेकिन दुकानें फिर भी बंद रही। यह बात और है कि यह चहल-पहल केवल कुछ घंटों की रही। रात आठ बजे के बाद फिर से सन्नाटा पसर गया।  Click here to download Rewa Riyasat's Android App
पढ़ें : रीवा वासियों को रीवा-झांसी ट्रेन की सौगात, यहाँ जाने समय चक्र ...

दूसरे दिन भी छाई रही खामोशी
होली के दूसरे दिन भी फिजा में खामोशी छाई रही। कुछ दुकानें खुली और कुछ लोग सडक़ों पर निकले। लेकिन आम दिन जैसा माहौल नहीं रहा। न ही पर्याप्त वाहन चले और न ही मार्केट पर्याप्त चहल पहल हुई। केवल जरूरत के सामानों वाली दुकानें खुली। जिससे एक ओर जहां बाजार की रौनक गायब रही। वहीं दूसरी ओर लोगों की फजीहत भी हुई। खासतौर पर यात्री वाहन नहीं चलने से लोगों को खासे परेशानी उठानी पड़ी।  Click here to download Rewa Riyasat's Android App

No comments

Powered by Blogger.