2 दिन बाद भी नहीं पकड़ा गया हत्यारा वैभव, FACEBOOK में लाइव होने के बाद भी नहीं टैक कर पाई पुलिस || REWA NEWS



रीवा. आजकल रीवा के युवाओं में फेसबुक एवं सोशल मीडिया मे जैसे कट्टा बंदूक लेकर फोटो डालने का दौर चल रहा है. हैरानी की बात तो यह है की ऐसे युवाओं के क्रियाकलाप से उनके परिजन तो अनजान रहते ही है साथ ही रीवा पुलिस भी ऐसे मामलों को गंभीरता से नहीं लेती। इसी का खामियाजा मंगलवार 27 मार्च को NITIN SINGH GAHARWAR को भुगतना पड़ा, जिसकी विन्ध्य के सबसे बड़े महाविद्यालय में गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस घटना ने समूचे विन्ध्य को हिलाकर रख दिया है. सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक जहां नितिन को श्रद्धांजलि दी जा रही है, वहीँ पुलिस प्रशासन को कोसा जा रहा है. Click here to download Rewa Riyasat's Android App

कई ठिकानों में पुलिस के छापे
टीआरएस कॉलेज में घुसकर छात्र नितिन की हत्या करने वाले मुख्य आरोपी वैभव सिंह की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने बुधवार को कई ठिकानों पर दबिश दी, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला है। पुलिस सर्विलांस के माध्यम से आरोपी तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। वहीं, पुलिस के हाथ लगे दूसरे आरोपी ने पूरी वारदात
को कबूल करते हुए खुलासा कर दिया है। इसके बाद पुलिस की एक टीम ने बैकुंठपुर कस्बे में दबिश देकर कॉलेज में पढऩे वाली एक छात्र से पूछताछ की है। 

सूत्रों की मानें तो छात्रा ने पुलिस को वारदात की मुख्य वजह बताई है। आरोपी मयंक सिंह उर्फ संग्राम ने अधिकारियों के सामने बयान दिए हैं कि कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्रा जो रिश्ते में वैभव की बहन लगती है। उसे कॉलेज में पढऩे वाला छात्र विपिन सिंह परेशान करता था। बीते कई दिनों से विपिन उक्त छात्रा को फोन भी करने लगा था। इससे परेशान होकर छात्रा ने वैभव से अपनी परेशानियां बताईं और विपिन को समझाने की बात कही। मंगलवार को वैभव उसके साथ विपिन को समझाने गया था। इसी दौरान विवाद हो गया और विपिन से हाथापायी होने लगी। इसी बीच नितिन भी पहुंच गया और कुछ लड़कों के साथ मारपीट करने लगा। इस दौरान वैभव ने नितिन को गोली मार दी थी। घटना का फुटेज भी सामने आ गया है। 

तीन दिन के रिमाण्ड पर संग्राम
पुलिस के हाथ लगे आरोपी संग्राम सिंह को पुलिस ने बुधवार को जिला न्यायालय में पेश किया, जहां से वारदात के संबंध में पूछताछ के लिए तीन दिन की रिमाण्ड पर लिया है। इस दौरान संग्राम से वारदात के संबध में और पड़ताल की जाएगी। 

ठाकुर रणमत सिंह (TRS) महाविद्यालय में मंगलवार को हुई गोलीकांड का मुख्य आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है. आरोपी ने फेसबुक पर लाइव भी हुआ, जो रीवा पुलिस के लिए चैलेंज था, फिर भी पुलिस साइबर सेल की मदद के बावजूद भी आरोपी को ट्रैक कर पाने में असफल नजर आ रही है.

बता दें मंगलवार को नितिन सिंह गहरवार (19), जो टीआरएस महाविद्यालय, रीवा में बीएससी फाइनल इयर का छात्र था, की वैभव ठाकुर द्वारा महाविद्यालय के अन्दर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जिसमे वैभव के साथ एक अन्य आरोपी मयंक सिंह उर्फ़ संग्राम को महाविद्यालय के छात्रों द्वारा पकड़ कर पुलिस के हवाले कर दिया गया, परन्तु वैभव ठाकुर वहां से फरार हो पाने में सफल हो गया था. वारदात का पूरा दृश्य महाविद्यालय के CCTV में कैद हो गया है. Click here to download Rewa Riyasat's Android App

घटना के दुसरे दिन बुधवार को वैभव ठाकुर फेसबुक पर लाइव हुआ, 'लोगो ने मजबूर किया बुरा बनने मे इसलिये हम बुरे ही अच्छे' स्टेटस फेसबुक पर पोस्ट भी किया, जिससे पुलिस को उसकी लोकेशन पता होने की उम्मीद थी, बावजूद इसके भी पुलिस अब तक खाली हाँथ है. वहीँ टीआरएस कॉलेज बुधवार को बंद रखा गया, प्रदर्शन पर बैठे छात्रों ने प्रशासन से मांग रखी है जब तक आरोपी वैभव ठाकुर गिरफ्तार नहीं हो जाता, और महाविद्यालय में पुलिस चौकी नहीं बनवा दी जाती, तब तक महाविद्यालय में कक्षाएं संचालित नहीं होंगी. 



जाने पूरा घटनाक्रम
संभाग के सबसे बड़े ठाकुर रणमत सिंह स्वशासी महाविद्यालय मे दोपहर लगभग 2 बजे वैभव ठाकुर ने पुरानी रंजिश के चलते छात्र नितिन सिंह पर सरेआम गोली दाग दी गोली लगते ही छात्र नितिन सिंह की मौत हो गई । घटना की सूचना मिलते ही पुलिस घटनास्थल पहुची तब तक हत्या के आरोपी वैभव ठाकुर व उसका साथी संग्राम सिंह मौका देख फरार हो गए । बाद मे पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए एक आरोपी संग्राम सिंह को दबोच लिया । जबकि हत्या का मुख्य आरोपी वैभव सिंह भागने मे कामयाब रहा। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

घटना की सच्चाई पुलिस जांच के बाद ही सामने आएगी। इस घटना से छात्रो मे भय व्याप्त है। टी आर एस कालेज पूरी तरह से असुरक्षित होता जा रहा है । लगातार हो रही घटनाओ को देखते हुए यहा तत्काल पुलिस चौकी खोली जानी चाहिए। ताकि यहा पढने वाले छात्र व पदस्थ शिक्षक अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सके। Click here to download Rewa Riyasat's Android App


No comments

Powered by Blogger.