'जागते रहो...!' रीवा पुलिस सो रही है || REWA NEWS

रीवा। इन दिनों जिले की कानून व्यवस्था भगवान भरोसे चल रही है, जहां वर्ष की शुरुआत अपहरण की घटना से हुई थी। वहीं बीते ढेड़ माह के दौरान अपराधों का ग्राफ जिले में तेजी से बढ़ा है। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

पुलिस की सफलताओं की बात करें तो एटीएम ठग गिरोह, पांच डकैतों सहित कुछ और छोटे खुलासों के अलावा कोई खास नही है। इन सब के पीछे या कारण है।

इसका पता लगाने निकली दैनिक जागरण समाचार पत्र टीम ने पाया कि जिले के ज्यादातर थाने रात 12 बजे के बाद बंद हो जाते हैं। रही गस्त की बात तो पुलिस सड़क या मोहल्लो में दिख जाए तो बड़ी बात है। रीवा जिले में बढ़ रहे अपराधों को देखते हुए रात्रि कालीन कानून व्यवस्था की कसावट को देखने के लिए दैनिक जागरण समाचार पत्र टीम ने हनुमना और मऊगंज सहित शहरी क्षेत्र के कुछ थानों का निरीक्षण किया, तो पाया कि ज्यादातर थानों के दरवाजों में ताला लगाकर पुलिस थाने के अंदर शो रही है। वहीं डायल 100 भी एक-दो दिन ही नजर आई। इसका जिमेदार कोई और नहीं, बल्कि पुलिस अधिकारी ही हैं, जो खुद रात में थानों और गस्त की सच्चाई जानने कभी नहीं निकलते हैं। जिसके चलते उनके मातहत रात में गस्त करने की जगह अपने कमरों में आराम फरमाते हैं। जबकि हाइवे पर वाहन लूट सहित ग्रामीण इलाकों में चोरी की घटनाएं लगातार हो रही हैं। इसके बावजूद भी पुलिस अधिकारी अपनी कुंभकरणी नींद से उठने का प्रयास नहीं कर रहे हैं। Click here to download Rewa Riyasat's Android App
सौ. दैनिक जागरण, रीवा

No comments

Powered by Blogger.