6वां वेतनमान मिला नहीं 7वें की मांग पर अड़ गए पंचायत सचिव | MP NEWS

भोपाल। पंचायत सचिवों को अभी सिर्फ छठवां वेतनमान अप्रैल 2018 से दिए जाने की घोषणा हुई है और संगठन ने सातवें वेतनमान की मांग उठाना शुरू कर दी है। संगठन की ओर से पंचायत सचिवों को सोशल मीडिया के माध्यम से संदेश दिया गया है कि अगला लक्ष्य सातवां वेतनमान हासिल करना है। साथ ही कहा है कि सहायक अध्यापकों को जब सातवां वेतनमान दिया जाए, तभी से पंचायत सचिवों को भी इसका लाभ मिले। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

पंचायत सचिव संगठन के प्रांताध्यक्ष दिनेश शर्मा की ओर से सोशल मीडिया पर संगठन पदाधिकारियों को अगले लक्ष्य के बारे में बताया गया है। इसमें कहा है कि अध्यपाकों के साथ हमें सातवां वेतनमान चाहिए। जिस समय से अध्यापकों को यह वेतनमान दिया जाए, तब से ही पंचायत सचिवों के लिए भी लागू किया जाए। सहायक अध्यापकों को छठवां वेतनमान 2013 से दिया गया है, सचिवों को भी इसी तारीख से दिया जाना चाहिए।Click here to download Rewa Riyasat's Android App

धारा 92 के तहत तीन हजार से ज्यादा पंचायत सचिवों से प्रभार छीन लिए गए हैं। कुछ से वसूली हो चुकी है तो कुछ को दंड भी मिल गया है। सरपंचों से वसूली होना बाकी है। इसके लिए पंचायतराज अधिनियम में अलग व्यवस्था है। दोनों कार्रवाई अलग-अलग होती हैं इसलिए पंचायत सचिव को उनके प्रभार वापस सौंपे जाएं। शर्मा ने बताया कि इसे लेकर अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास इकबाल सिंह बैंस को ज्ञापन भी सौंपा गया है। इसमें पंचायत सचिव की सेवा की गणना 1995 से करने की मांग भी की गई है। इसके आधार पर ही वरिष्ठता तय होगी और वेतनमान में फायदा मिलेगा।Click here to download Rewa Riyasat's Android App

No comments

Powered by Blogger.