10 नहीं अब 7 रूपए होगा ऑटोरिक्शा का मिनिमम किराया, जल्द ही लगेंगे मीटर : कलेक्टर || REWA NEWS

रीवा. यातायात संबंधी बैठक में कलेक्टर श्रीमती प्रीति मैथिल नायक ने निर्देश दिये कि जब तक प्राधिकृत समिति द्वारा शहर के आटो किराया का निर्धारण नहीं हो जाता तब तक प्रति सवारी पूर्व में लगने वाले किराये में केवल 2 रूपये बढ़ा कर ही किराया लिया जाय। इससे अतिरिक्त छोटे आटो में चार व बड़े आटो में पांच व्यक्ति ही बैठ सकेंगे साथ में एक बच्चे की सवारी बैठाने की अनुमति रहेगी। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

बैठक में कलेक्टर ने कहा कि आगामी 2 माह में सभी आटो में मीटर लग जांय साथ ही शहर में जोन बनाकर आटो संचालन की व्यवस्था करायी जायेगी। ग्रामीण क्षेत्र से आने वाले आटो शहर की सीमा में प्रवेश नहीं कर पायेंगे। उन्होंने बताया कि शहर में सिटी बस संचालन के प्रयास जारी है शीघ्र ही बसें चलायी जायेगी। कलेक्टर ने निर्देश दिये कि सड़क में चलने वाले सभी वाहनों के परमिट हों तथा वह वाहन पूरी तरह फिट भी हो इस बात की निगरानी यातायात पुलिस व आरटीओ विभाग करें। शहर के बाजार क्षेत्र में पीला लाइन डालकर चिन्हित किया जाय।Click here to download Rewa Riyasat's Android App

खाली बसें शहर में खड़ी हुई तो कार्यवाही होगी
कलेक्टर ने स्पष्ट तौर पर कहा कि शहर में कही भी खाली बस खड़ी मिली तो कड़ी कार्यवाही होगी। बस मालिक उन्हें अपने सुरक्षा में खड़ी करायें। बस स्टैण्ड में बसें अंदर से सवारी लें व सड़क पर सवारी न बिढायें। कलेक्टर ने टैक्सी चालकों को निर्देशित किया कि परमिट वाली टैक्सी ही संचालित करें व टैक्सी स्टैण्ड से ही टैक्सी रवाना हों। उन्होंने कहा कि शहर में किसी भी कारण से जाम की स्थिति न बने। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

व्यापारी अपना सामान बाहर न रखें
बैठक में कलेक्टर ने कहा कि व्यापारी अपनी दूकान का सामान अंदर रखें यदि बाहर सामान पाया गया तो जप्त कर लिया जायेगा। कलेक्टर ने शहर की यातायात व्यवस्था व व्यवस्थित रखने में सहयोग की अपील की। 

स्कूल बसों में सुरक्षा निर्देशों का पालन करें
कलेक्टर ने कहा कि बस संचालक व स्कूल प्रबंधन विद्यालयों के बच्चों को ले जाने वाले वाहनों बसों, वैन आटो आदि में सुरक्षा निर्देशों का पालन सुनिश्चित करायें। स्कूल बस पीले रंग में हो, बसों पर स्कूल बस पीछे एवं अग्र भाग पर लिखा हो तथा यदि अनुबंधित बस हो तो उक्त पर ऑन स्कूल ड्यूटी लिखा जाना चाहिए, स्कूल बस में प्राथमिक उपचार की सुविधा, गति मापी यंत्र लगा हो तथा बसों की खिड़कियों पर सरियों की जाली हो, बसों में अग्निशमन यंत्र की सुविधा हो 40 किमी प्रति घंटा स्पीड हो, बस पर स्कूल का नाम तथा दूरभाष क्रमांक अंकित हो, बसों में दरवाजों पर लगे ताले ठीक स्थिति में हों, बसों में प्रशिक्षत परिचालक हो, किसी भी शिक्षक अथवा पालक को बस में सुरक्षा मुआयना करने की दृष्टि से जाने की सुविधा हो, चालक के पास कम से कम 5 वर्ष पुराना भारी यात्री वाहन चलाने का लाइसेंस हो, सीटों के नीचे बस्तों की सुरक्षा हेतु अलग से स्थान हो, बस पर ऐसा ड्राइवर रखा जायेगा जिस पर लाल बत्ती तोड़ने के जुर्म एकाधिक बार चालानी कार्यवाही न की गयी हो। अप्राधिकृत व्यक्ति से स्कूल वाहन नहीं चलवायें। Click here to download Rewa Riyasat's Android App

स्कूल संचालकों को यह भी निर्देश है कि वह नियमित रूप से अपने स्कूल की वाहनों की तकनीकी रूप से जांच करावें और यदि उसमें कोई तकनीकी खराबी हो तो तत्काल ठीक करावें, साथ ही उनका यह भी दायित्व होगा कि वे स्कूल बसों के ड्रायवरों की आँखों नियमित रूप से जांच करायें। बसों में सी.सी.टी.व्ही. कैमरा व जीपीएस सिस्टम भी लगवाया जाय। उन्होंने कहा कि 1500 से अधिक बच्चों के विद्यालयों में उनका स्वयं का सुरक्षा गार्ड हो तथा परिसर से ही बच्चे वाहन में जांये। बैठक में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अशुतोष गुप्ता, शिवकुमार सिंह, एसडीएम हुजूर अरूण वि·ाकर्मा, डिप्टी कलेक्टर के.पी. पाण्डेय, आरटीओ अ·ानी रावत सहित आटो, बस, टैक्सी यूनियन के प्रतिनिधि, छात्र प्रतिनिधि, पत्रकार उपस्थित थे।Click here to download Rewa Riyasat's Android App

No comments

Powered by Blogger.