हिंदी फिल्मो में रेप सीन के लिए इस जबरदस्त एक्टर को साइन करते थे फिल्म डायरेक्टर, खोले कई राज


खजुराहो। मध्य प्रदेश के विश्व पर्यटक स्थल खजुराहो में चल रहे फिल्म फेस्टिवल के दूसरे दिन फिल्मकारों के साथ फिल्मी पर्दे के खलनायकों ने एंट्री मारी है। बॉलीवुड में 80 के दशक में अगर विलेन की बात करें तो रंजीत, प्रेम चोपड़ा और अमरीश पुरी जैसे कलाकारों को मान सबसे पहले नंबर पर आता था। यहीं वो नाम है जिनको लोग विलेन के रुप में देखना पसंद करते थे। फेस्टिवल की स्थानीय फिल्म कर्ज का चक्रव्यूह देखने के लिए जहां गुजरे जमाने के खलनायक प्रेम चोपड़ा अपनी पत्नी और अन्य फिल्मकारों के साथ पहुंचे तो वहीं खजुराहो में खलनायक रंजीत पहुंच गए।
रेप सीन के लिए फेमस
फिल्म फेस्टिवल के बाद पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए प्रेम चोपड़ा ने कहा कि रील लाइफ में कितने भी बुरे बन जाएं लेकिन रियल लाइफ में खलनायकी से सभी को बचना चाहिए। उन्होंने कहा कि कद-काठी और शक्ल से तो मैं ठीकठाक ही था लेकिन तब भी कभी हीरो का रोल ऑफर नहीं हुआ। मुझे हमेशा खलनायकी के लिए ही पसंद किया गया। उस दौर में रिलीज होने वाली फिल्मों में कहानी को इंट्रेस्टिंग बनाने के लिए ऐसे सीन जरूर डाले जाते थे, जिसके लिए मेरी डिमांड रहती थी।

लोगों ने किया एक्सेप्ट

प्रेम चोपड़ा का कहना है कि उन्हें समाज से कोई फर्क नहीं पड़ता है कि लोग क्या कहेंगे। वे घर से सिर्फ बॉलीवुड में काम करने की इच्छा से आए हैं। मुझे बहुत खुशी होती है कि लोग मेरे काम से खुश हैं और मुझे पसंद करते हैं। इसलिए मैनें ये बातें सचोना बंद कर दिया था कि मेरे रेप के सीन करने से लोग मेरे बारे में क्या सोचेंगे। मैं खुश हूं कि उस दौर में फिल्मों को हिट कराने में विलेन की भूमिका भी बड़ी महत्वपूर्ण हुआ करती थी और लोग आपके डायलॉग के साथ आपको भी सालों-साल याद रखते थे

No comments

Powered by Blogger.